scorecardresearch

राहत भरी खबर! मई में खुदरा महंगाई दर 7.04 प्रतिशत, इन चीजों के दाम घटे

अप्रैल के मुकाबले महंगाई दर में 0.75 प्रतिशत की गिरावट दर्ज की गई है। इस कारण से अब खुदरा महंगाई दर 7.04 प्रतिशत पर पहुंच गई है। सरकारी आंकड़ो के अनुसार खुदरा महंगाई दर अप्रैल में आठ साल के उच्‍च स्‍तर पर थी।

CPI Inflation | RBI
महंगाई दर में 0.75 प्रतिशत तक की गिरावट आई है। (फोटो-Express Archive)

अप्रैल के मुकाबले महंगाई दर में 0.75 प्रतिशत की गिरावट दर्ज की गई है। इस कारण से अब खुदरा महंगाई दर 7.04 प्रतिशत पर पहुंच गई है। सरकारी आंकड़ो के अनुसार खुदरा महंगाई दर अप्रैल में आठ साल के उच्‍च स्‍तर पर थी।

सीपीआई बेस्‍ड महंगाई दर ने लगातार पांचवें महीने आरबीआई के टारगेट बैंड की ऊपरी सीमा 2-6 प्रतिशत को पार कर ली है। अप्रैल में उपभोक्ता मूल्य आधारित मुद्रास्फीति (CPI) दर 7.79 फीसदी थी। पिछला उच्च मई 2014 में 8.33 प्रतिशत दर्ज किया गया था। वहीं मार्च में 6.95 प्रतिशत और पिछले साल मार्च में 4.23 प्रतिशत था।

गौरतलब है RBI अपने बाई-मंथली पॉलिसी फैसले पर पहुंचते समय खुदरा मुद्रास्फीति के आंकड़े पर विचार करता है। सरकार ने केंद्रीय बैंक को खुदरा मुद्रास्फीति को 4 प्रतिशत पर 2 प्रतिशत प्‍लस और माइनेस के साथ रखने के लिए अनिवार्य कर दिया है।

इन चीजों के कम हुए दाम
सीपीआई आधारित मुद्रास्फीति में आई गिरावट से लोगों को कई चीजों में लाभ मिलेगा। वहीं, अप्रैल के मुकाबले मई महीने में खाने पीने के कुछ चीजों में गिरावट हुई है।

ये चीजें हुई महंगी
भले ही मई में मुद्रास्फीति में 75 आधार अंकों की तेजी से गिरावट हुई हो, लेकिन ‘खाद्य और पेय पदार्थ’, ‘पान, तंबाकू और नशीले पदार्थ’, ‘कपड़े और जूते’, ‘आवास’, ‘ईंधन’ और प्रकाश’ में वृद्धि दर्ज की है।

आरबीआई रेपो रेट में जारी रहेगी बढ़ोतरी
महंगाई को कंट्रोल करने के लिए आरबीआई ने चार साल में पहली बार अपनी प्रमुख दर में वृद्धि किया था, मई में एक ऑफ-साइकिल बैठक में इसे 40 आधार अंकों (बीपीएस) और इसके बाद 50 आधार अंकों की वृद्धि की थी, जिसके बाद पिछले हफ्ते रेपो रेट को 4.90 फीसदी पर चला गया है। अर्थशास्त्री देखते हैं कि अगले कुछ बैठकों में नीतिगत दर में वृद्धि जारी रहेगी, जिसमें प्रमुख दर वित्तीय वर्ष के अंत तक लगभग 5.5-6.0 प्रतिशत देखी जाएगी।

पढें यूटिलिटी न्यूज (Utility News) खबरें, ताजा हिंदी समाचार (Latest Hindi News)के लिए डाउनलोड करें Hindi News App.

अपडेट

X