scorecardresearch

कोरोनाः विदेश से आने वाले संक्रमितों के लिए आइसोलेशन सेंटर्स पर रहना अब जरूरी नहीं, जानें- क्या कहते हैं ताजा दिशा-निर्देश

केंद्र के मुताबिक, अब भी जांच के दौरान जिन यात्रियों में कोरोना के लक्षण पाए जाएंगे, उन्हें तत्काल अन्य लोगों से पृथक किया जाएगा और चिकित्सा केंद्र ले जाया जाएगा।

coronavirus, covid-19, utility news
नई दिल्ली स्थित शहनाई बैंक्वेट हॉल में बनी कोविड केयर फैसिलिटी में कोरोना मरीजों से बात करते हुए हेल्थ वर्कर। (फोटोः पीटीआई)

कोरोना वायरस (Covid-19) संकट के बीच केंद्र सरकार ने विदेश से भारत आने वाले संक्रमितों को राहत दी है। दरअसल, अब बाहर से आने वाले पॉजिटिव लोगों के लिए आइसोलेशन सेंटर्स में रहना अब जरूरी नहीं है। सरकार ने इस बाबत गुरुवार को संशोधित गाइडलाइन जारी की थी, जो कि शनिवार (22 जनवरी, 2022) से अमल में आ गई।

संशोधित दिशा-निर्देशों के मुताबिक, किसी और देश से भारत आने वाले कोरोना संक्रमित यात्रियों के लिए 22 जनवरी, 2022 से आइसोलेशन सेंटर में रहना जरूरी नहीं होगा। हालांकि, ऐसे लोगों को प्रोटोकॉल के अनुसार घर पर क्वारंटीन रहना होगा। गाइडलाइन यह भी कहती है कि संक्रमण से ठीक होने की पुष्टि के बाद भी उक्त व्यक्ति को और सात दिन घर में आइसोलेट रहना पड़ेगा। साथ ही, विदेश से भारत आने वालों यहां पहुंचने के बाद आठवें दिन अपनी कोरोना आरटी-पीसीआर जांच करानी होगी।

केंद्र के बयान में कहा गया कि इससे पहले के नियमों के अनुसार जोखिम वाले देशों सहित अन्य देशों से आने वाले यात्रियों को आइसोलेशन सेंटर्स पर रहना पड़ता था। मानक प्रोटोकॉल के अनुसार उनका इलाज किया जाता था। ताजा दिशा-निर्देशों के हिसाब से ऐसे लोगों के भारत आने पर पर ‘आइसोलेशन सेंटर’ में रहने की अनिवार्यता वाले प्रावधान को हटा दिया गया है।

केंद्र की ओर से बताया गया कि अब भी जांच में जिनमें कोरोना के लक्षण मिलेंगे, वे फौरन आइसोलेट किए जाएंगे। उन्हें इसके बाद अस्पताल ले जाया जाएगा। अगर उक्त व्यक्ति कोरोना पॉजिटिव मिलता है, तब उसके संपर्क में आए लोगों की पहचान की जाएगी और नियमानुसार आगे की प्रक्रिया बढ़ाई जाएगी।

कोरोना केसों के मामले में क्या है भारत की ताजा स्थिति?: इस बीच, देश में कोरोना के 3,37,704 नए मामले सामने आने के बाद कोविड-19 के कुल मामले बढ़कर 3,89,03,731 हो गए। स्वास्थ्य मंत्रालय के सुबह आठ बजे तक के आंकड़ों के अनुसार, इनमें ओमीक्रोन के 10,050 मामले भी हैं। डेटा के मुताबिक, उपचाराधीन मरीज बढ़कर 21,13,365 हो गए हैं जो पिछले 237 दिनों में सर्वाधिक हैं।

488 और मरीजों की मौत के साथ मृतक संख्या बढ़कर 4,88,884 हो गई है, जबकि शुक्रवार से ओमीक्रोन के मामलों में 3.69 प्रतिशत की वृद्धि हुई है। उपचाराधीन मामले संक्रमण के कुल मामलों का 5.43 प्रतिशत हैं जबकि कोविड-19 से स्वस्थ होने की राष्ट्रीय दर घटकर 93.31 प्रतिशत हो गई है। दैनिक संक्रमण दर 17.22 प्रतिशत दर्ज की गई जबकि साप्ताहिक संक्रमण दर 16.65 प्रतिशत रही।

पढें यूटिलिटी न्यूज (Utility News) खबरें, ताजा हिंदी समाचार (Latest Hindi News)के लिए डाउनलोड करें Hindi News App.