ताज़ा खबर
 

जन औषधि केंद्र से Whatsapp पर ऑर्डर देकर मंगाएं दवाइयां, लॉकडाउन में शुरू हुई सर्विस

Jan Aushadhi Kendra: इन प्लेटफॉर्म पर अपलोडेड प्रिस्क्रिप्शनों के आधार पर रोगियों के घर के दरवाजों तक दवाईयां पहुंचाई जा रही है। केंद्रीय रसायन एवं उर्वरक मंत्रालय के तहत कई प्रधानमंत्री भारतीय जन औषधि केंद्र देश के अलग-अलग हिस्सों में सक्रिय हैं।

Coronavirus, coronavirus india, coronavirus Ayurvedic treatment, Ayush Mantralaya, Ayurvedic Medicine, Clinical Trial on Coronavirus patients, ICMR, CTRI, Ayush Mantralaya on coronavirus, ayush quath, coronavirus cure, coronavirus cure india, coronavirus cure update, coronavirus india cases, coronavirus india state wise, coronavirus india count, coronavirus india today, coronavirus india state wise count, coronavirus india death, coronavirus india tracker, coronavirus symptoms, coronavirus precautions, coronavirus preventionप्रतीकात्मक तस्वीर।

Jan Aushadhi Kendra: कोरोना संकट के चलते देशभर में लॉकडाउन 17 मई तक लागू है। लॉकडाउन में लोगों को किसी तरह की दिक्कत न हो इसके लिए सरकार ने अपनी तरफ से कई प्रयास किए हैं। इसी कड़ी में अब जेनरिक दवाईयां बेचने वाले जन औषधि केंद्र से अब ग्राहक सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म व्हट्सएप और ई-मेल के जरिए दवाएं खरीद सकते हैं।

इन प्लेटफॉर्म पर अपलोडेड प्रिस्क्रिप्शनों के आधार पर रोगियों के घर के दरवाजों तक दवाईयां पहुंचाई जा रही है। केंद्रीय रसायन एवं उर्वरक मंत्रालय के तहत कई प्रधानमंत्री भारतीय जन औषधि केंद्र देश के अलग-अलग हिस्सों में सक्रिय हैं। ब्यूरो ऑफ फार्मा पीएसयू ऑफ इंडिया (बीपीपीआई) देश भर में जनऔषधि केंद्र चलाता है।

केंद्रीय रसायन एवं उर्वरक मंत्रालय के तहत कई प्रधानमंत्री भारतीय जन औषधि केंद्र देश के अलग-अलग हिस्सों में सक्रिय हैं। प्रधानमंत्री जन औषधि योजना मोदी सरकार की ऐसी योजना है जिसके तहत मरीजों को 50 से 90 फीसदी तक सस्ती दवाईयां मुहैया करवाई जाती हैं। पीएम मोदी ने 2015 में इस योजना की शुरुआत की थी। इसका मकसद महंगी दवाओं का वित्तीय बोझ झेल रहे गरीबों को सस्ती दवाएं देना है। सरकार का कहना है कि गुणवत्ता के मामले में यह दवाईयां ब्रांडेड जेनेरिक्स दवाईयों से कम नहीं हैं।

रसायन एवं उर्वरक मंत्री डीवी सदानंद गौड़ा ने कहा, ‘यह खुशी की बात है कि कई जरूरतमंदों तक आवश्यक दवाएं पहुंचाने के लिए आधुनिक संचार साधनों का उपयोग कर रहे हैं. इनमें वॉट्सऐप जैसे सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म शामिल हैं।’  एंड्रॉइड और आईओएस मोबाइल यूजर्स ‘जन औषधि सुगम’ नामक के मोबाइल एप से अपने आस-पास के जन-औषधि केंद्र से संपर्क साधकर दवाओं को ऑर्डर दे सकते हैं।

Next Stories
1 LIC की जीवन लाभ पॉलिसी में रोजाना 117 रु देकर पाएं 8 लाख, जानें क्या है ये प्लान
2 Paytm यूजर सावधान, ये एक गलती और पलक झपकते ही खाली हो सकता है अकाउंट
3 SBI समेत कई बैंक ATM के जरिए देते हैं आधार लिंकिंग की सुविधा, ये है तरीका
ये पढ़ा क्या?
X