ताज़ा खबर
 

बच्चे के Aadhaar Card में सेवा केंद्रकर्मी से हो गई है स्पेलिंग या टाइपिंग की चूक, तब यूं पकड़ सकते हैं गलती; जानें सही कराने का तरीका

जब आप बच्चे का आधार कार्ड बनवाने के लिए किसी सेवा केन्द्र जाते हैं तो आधार कार्ड की जानकारी देने के बाद एक एक्नॉलेजमेंट स्लिप मिलती है, जिसमें बच्चे के नाम सहित अन्य डिटेल्स हिंदी और इंग्लिश भाषा में लिखी होती हैं।

(प्रतीकात्मक फोटो)

आधार कार्ड किसी भी व्यक्ति का पहचान पत्र होता है, जिसकी विभिन्न जगहों पर जरूरत होती है। लेकिन यदि आधार कार्ड में या किसी अन्य पहचान पत्र की डिटेल्स में कोई अंतर आता है तो यूजर को इसके लिए काफी परेशानी का सामना करना पड़ सकता है। ऐसे में बच्चे का आधार कार्ड बनवाते समय भविष्य में किसी भी परेशानी से बचने के लिए इन्फोर्मेशन को चेक करना बेहद जरूरी है।

आमतौर पर आधार कार्ड बनवाते समय नाम की स्पेलिंग में गलती या टाइपिंग की चूक का ध्यान रखना बेहद जरूरी है। बता दें कि बच्चे का आधार कार्ड बनवाते समय किसी भी तरह की गलती को चेक करने का आसान सा तरीका है, जिसका ध्यान रखकर गलती से बचा जा सकता है।

दरअसल जब आप बच्चे का आधार कार्ड बनवाने के लिए किसी सेवा केन्द्र जाते हैं तो आधार कार्ड की जानकारी देने के बाद एक एक्नॉलेजमेंट स्लिप मिलती है, जिसमें बच्चे के नाम सहित अन्य डिटेल्स हिंदी और इंग्लिश भाषा में लिखी होती हैं। यहां आप इस स्लिप में डिटेल्स चेक कर सकते हैं और कोई गलती होने पर उसे तुरंत चेंज करा सकते हैं। चेक करने के बाद पूरी तरह संतुष्ट होने पर ही स्लिप पर हस्ताक्षर करें।

बता दें कि पांच साल से कम उम्र के बच्चों का भी आधार कार्ड बनता है। UIDAI ने हाल ही में इसके लिए नीले रंग का ‘बाल आधार कार्ड’ पेश किया है। बाल आधार कार्ड बनवाने के लिए आधार की वेबसाइट पर जाकर अप्वाइंटमेंट बुक करना होगा। इसके बाद तय तारीख पर आधार सेंटर जाकर रजिस्ट्रेशन किया जा सकता है।

बच्चों के आधार कार्ड रजिस्ट्रेशन के लिए जन्म प्रमाणपत्र की जरूरत होगी। बच्चों का आधार कार्ड परिजनों के आधार कार्ड से लिंक होगा। रजिस्ट्रेशन के 60 दिनों में आधार कार्ड घर के पते पर आ जाएगा।

Next Stories
1 केंद्र सरकार के कर्मचारी हैं तो क्या NPS से Old Pension Scheme में जाना संभव है? ऐसे करें चेक
2 450 से अधिक गाड़ियां रद्द, चेक करें कि कहीं आपकी ट्रेन भी तो नहीं है कैंसल
ये पढ़ा क्या?
X