ताज़ा खबर
 

मुफ्त हेल्‍थ चेक-अप के हकदार हैं या नहीं? ऐसे पता लगाएं

बढ़ती स्वास्थ्य लागत और लाइफ स्टाइल से जुड़ी बीमारियों की बढ़ती घटनाओं को देखते हुए हर साल कम से कम एक बार स्वास्थ्य जांच करानी चाहिए। बढ़ती उम्र के कारण शरीर की स्वास्थ्य संबंधी जरूरतें भी बदल जाती हैं।

free health insurance, free health insurance checkup health insurance, health insurance plans, health insurance plans in India, assess health insurance cover, claim rejection, claim rejection ratio of insurance company, claim insurance, claim settlement ratio, claim settlement ratio of health insurance companies, Sum Insured, Restore option, No sub-limits, Undergo pre-policy tests, minimum co-pays, lower waiting periods, room rent capping, comprehensive cover, maternity, treatment abroad, OPD benefit, coverage to newborn child, good network of hospitals, Cashless facility, Mental illness, Psychiatric illness, HIV, AIDS, genetic disorders, buy a health insurance policy, things to check before buying a health insurance policyफ्री स्वास्थ्य जांच की सुविधाएं एक कंपनी से दूसरी कंपनी और आपकी पॉलिसी के प्रकार पर निर्भर करती हैं।

अधिकांश लोगों को पता ही नहीं होता कि कई स्वास्थ्य बीमा पॉलिसियों में नि: शुल्क स्वास्थ्य जांच की सुविधा हैं। यह ऐसी पॉलिसियों के प्रमुख आकर्षणों में से एक है। हमेशा नियमित रूप से स्वास्थ्य जांच करवाने की सलाह दी जाती है क्योंकि यह बीमारियों का जल्द पता लगाने में मदद करता है। बीमा पॉलिसियों के साथ एक नि: शुल्क स्वास्थ्य जांच बहुत मदद करती है, विशेष रूप से ऐसे देश में जहां लोग अपने आप नियमित जांच के लिए नहीं जाते हैं। आपने जो पॉलिसी खरीदी है उसके साथ मुफ्त हेल्थ चेक-अप है या नहीं यह पॉलिसी लेते वक्त ही संबंधित व्यक्ति या कंपनी से पूछ लें। आपने जिस कंपनी की पॉलिसी ले रखी है उसके कस्टमर केयर पर कॉल करके भी इसका पता लगा सकते हैं। भारतीय बीमा विनियामक और विकास प्राधिकरण (IRDAI) के अनुसार, भारत में स्वास्थ्य बीमा वर्तमान में 3.49 प्रतिशत है, और इंडस्ट्री के आंकड़ों के अनुसार, 10 प्रतिशत से कम पॉलिसीधारक अपने बीमाकर्ताओं से मुफ्त स्वास्थ्य जांच का लाभ उठाते हैं।

विशेषज्ञों का सुझाव है कि, बढ़ती स्वास्थ्य लागत और लाइफ स्टाइल से जुड़ी बीमारियों की बढ़ती घटना के साथ, हर साल कम से कम एक बार स्वास्थ्य जांच करानी चाहिए। बढ़ती उम्र के कारण शरीर की स्वास्थ्य संबंधी जरूरतें भी बदल जाती हैं। इस तरह के नियमित चेकअप आपको अपनी स्वास्थ्य स्थिति के बारे में अधिक जागरूक बनाते हैं और आपको सही समय पर अपनी मौजूदा स्वास्थ्य बीमा पॉलिसी में आवश्यक बदलाव करने की अनुमति देते हैं, जैसे कि आपकी बीमा कवर की राशि में बढ़ोतरी आदि।

फ्री स्वास्थ्य जांच की सुविधाएं एक कंपनी से दूसरी कंपनी और आपकी पॉलिसी के प्रकार पर निर्भर करती हैं। अधिकांश कंपनियां प्रतीक्षा अवधि के साथ इस सुविधा की पेशकश करती हैं। जैसे एचडीएफसी एर्गो जनरल इंश्योरेंस इसे चार साल की प्रतीक्षा अवधि के बाद प्रदान करता है, जबकि रेलिगेयर हेल्थ इंश्योरेंस इसे पहले दिन से ही प्रदान करता है। पॉलिसीधारकों को अपनी बीमा कंपनियों के साथ साल में एक बार या नवीनीकरण के दौरान इसका लाभ उठाना चाहिए। सभी पॉलिसी में यह सुविधा सालाना नहीं होती है। कुछ इसे हर दो साल में एक बार पेश करते हैं। उदाहरण के लिए, अपोलो म्यूनिख बीमा राशि के एक प्रतिशत के दो लगातार सालों के बाद एक बार मुफ्त चेकअप प्रदान करता है।

कभी-कभी विशेष रूप से एक फैमिली फ्लोटर प्लान में, पेश किए गए नि:शुल्क चेक-अप का मूल्य परिवार के सभी बीमित सदस्यों के लिए काफी कम हो सकता है। उदाहरण के लिए, स्टार हेल्थ इंश्योरेंस द्वारा एक परिवार फ्लोटर पॉलिसी, जिसमें बीमित राशि 3,00,000 रुपए है। परिवार के सभी सदस्यों के लिए यह 750 रुपये का हेल्थ चेकअप प्रदान करता है। एक क्लिनिक या अस्पताल से पूरे शरीर की जांच में आमतौर पर लगभग 1,900 से 3,500 रुपये का खर्च आता है। इसके अलावा, बीमाकर्ताओं द्वारा प्रदान की जाने वाली मुफ्त स्वास्थ्य जांच की राशि आपके प्रारंभिक बीमा राशि पर निर्भर करती है। नो-क्लेम बोनस के कारण पॉलिसी की बढ़ी हुई बीमा राशि के मामले में, यह मुफ्त स्वास्थ्य लाभ के मूल्य को नहीं दर्शाता है।

Next Stories
1 Indian Railways: रेल कुंभ सेवा ऐप लॉन्‍च, पेपरलेस टिकट समेत मिलेंगी इतनी सुविधाएं
2 नए साल में इन 5 तरकीब को आजमा कर बचा सकते हैं पैसे, यहां लें पूरी जानकारी
3 अमूल के नाम पर बेचा जा रहा था नकली बटर, जानिए कैसे करें असली मक्खन की पहचान
यह पढ़ा क्या?
X