कृषि कानून वापसी के बाद नई पेंशन योजना वापस लेने की मांग तेज, शंखनाद रैली में उठी मांग

कर्मचारियों की मांग है कि जिस प्रकार से कृषि कानूनों को वापस किया गया है, उसी तरह से नई पेंशन योजना भी वापस कर पुरानी पेंशन योजना बहाल की जाए। साथ ही निजीकरण पर भी रोक लगनी चाहिए।

कृषि कानून वापसी के बाद नई पेंशन योजना वापस लेने की मांग तेज, शंखनाद रैली में उठी मांग (File Photo)

कृषि कानून के वापसी के बाद अब पुरानी पेंशन वापसी को लेकर मांग उठ रही है। ऑल इंडिया इंप्‍लाइज वेलफेयर एसोसिएशन (अवेटा) के बैनर तले रविवार को उत्‍तर प्रदेश के कर्मचारियों व शिक्षकों ने पुरानी पेंशन योजना बहाली को लेकर ईको गार्डन में शंखनाद रैली की। कर्मचारियों की मांग है कि जिस प्रकार से कृषि कानूनों को वापस किया गया है, उसी तरह से नई पेंशन योजना भी वापस कर पुरानी पेंशन योजना बहाल की जाए। साथ ही निजीकरण पर भी रोक लगनी चाहिए। इनका कहना है कि निजीकरण से युवाओं का भविष्‍य खराब हो रहा है।

अवेटा के प्रदेश अध्‍यक्ष विजय बंधु ने शंखनाद रैली के दौरान कहा कि नई पेंशन योजना से कर्मचारियों और शिक्षकों का भविष्‍य अंधकार में हो रहा है। आने वाले समय में नई व्‍यवस्‍था कर्मचारियों व शिक्षकों के लिए सही नहीं है। इसलिए इसे वापस लेना चाहिए और पुरानी पेंशन योजना फिर से लागू कर देना चाहिए। पीडब्‍लूडी कर्मचारी संघ के भारत सिंह ने भी नई पेंशन योजना वापस लेने की मांग की है। इसके अलावा रेलवे से राजेंद्र सिंह ने आरोप लगाते हुए कहा कि रेलवे को बेचा जा रहा है, जो बिल्‍कुल भी बर्दाश्‍त के लायक नहीं है।

कर्मचारी और शिक्षक इस दौरान यूपी के सीएम योगी आदित्‍यनाथ से मुलाकात करने को अड़े रहे। उनकी मांग थी कि वे मुख्‍यमंत्री से मुलाकात के बाद ही रैली समाप्‍त करेंगे। काफी देर तक अधिकारियों के समझाने पर कर्मचारी शांत हुए। डीसीपी ख्‍याति गर्ग ने कर्मचारी नेताओं को दो दिनों के अंदर मुख्‍य सचिव व सीएम से वार्ता का भरोसा दिलाया है।

यह भी पढ़ें: 888 चिपसेट के साथ लॉन्‍च होगा Realme का यह धांसू फोन! 50MP का मिलेगा कैमरा भी

बता दें कि अभी हाल ही में केंद्र सरकार द्वारा तीनों कृषि कानूनों को वापस लेने का ऐलान किया गया है। जिसके बाद अब कृषि कानून वापस करने वाला प्रस्‍ताव तैयार किया जाएगा। यह प्रस्‍ताव केंद्रीय मंत्रीमंडल की बैठक में तैयार किया जा सकता है। हालाकि अभी इसे लेकर जानकारी सामने नहीं आई है।

पढें यूटिलिटी न्यूज समाचार (Utility News). हिंदी समाचार (Hindi News) के लिए डाउनलोड करें Hindi News App. ताजा खबरों (Latest News) के लिए फेसबुक ट्विटर टेलीग्राम पर जुड़ें।

Next Story
ब‍िहार सरकार के नए आदेश पर तेजस्‍वी यादव ने ललकारा, नीतीश कुमार को भ्रष्‍टाचार का भीष्‍म प‍ितामह पुकारा
अपडेट