ताज़ा खबर
 

लोगों ने माना- इस वेबसाइट पर मिलते हैं सबसे ज्यादा नकली प्रोडक्ट

दिल्ली हाईकोर्ट ने हाल ही में आदेश दिया था कि ई-कॉमर्स वेबसाइट यह सुनिश्चित करें कि वे जो सामान बेच रहे हैं, वह सही हो।

Author November 6, 2018 7:02 PM
तस्वीर का इस्तेमाल प्रतीकात्मक रूप में किया गया है। (Photo: REUTERS)

एक सर्वे के अनुसार, 37 प्रतिशत भारतीयों ने कहा कि ई-कॉमर्स वेबसाइट स्नैपडील ने पिछले छह महीने में सबसे ज्यादा ज्यादा नकली प्रोडक्ट भेजे हैं। त्योहारों के मौसम में ई-कॉमर्स वेबसाइट पर दिए जाने वाले ऑफर और कैशबैक की वजह से ब्रिक्री बढ़ जाती है। ऐसे में नकली प्रोडक्ट में भी वृद्धि हुई है। लोकल सर्किल्स द्वारा किए गए एक सर्वे में यह दिखाया गया है कि सबसे ज्यादा लोगों ने बताया, “ई-कॉमर्स वेबसाइट स्नैपडील ने ज्यादा नकली प्रोडक्ट भेजे हैं।” हालांकि, अन्य दूसरे भी पीछे नहीं थे। सर्वे के अनुसार, ग्राहकों ने अपने उस अनुभव को साझा किया जिसमें उन्हें ई-कॉमर्स साइट से नकली सामान मिले हैं। इनमें से 37 प्रतिशत लोगों ने स्नैपडील, 22 प्रतिशत ने फिल्पकार्ट, 21 प्रतिशत ने पेटीएम मॉल और 20 प्रतिशत ने अमेजन का नाम लिया। हर पांच में से एक भारतीय ने कहा कि वे ई-कॉमर्स कंपनियों द्वारा ठगे गए। यह सर्वे 7943 लोगों के बीच किया गया।

लोकल सर्किल्स ने कहा कि यह सर्वे करने का निश्चय तब किया गया जब पिछले छह महीनों में सैंकड़ों ग्राहकों ने नकली सामान मिलने की शिकायत की। लोकल सर्किल्स ने कहा, “त्योहारों के मौसम में सेल के दौरान भारतीय ई-कॉमर्स कंपनियां हजारों करोड़ का सामान बेचती है। हालांकि, ई-काॅमर्स कंपनियां ग्राहकों को कई तरह की सुविधाएं देती है, लेकिन इस बात की गारंटी नहीं होती कि उन्हें ऑरिजनल सामान ही मिलेगा।”

जानिए क्या मिला सर्वे में:- 
* 19 प्रतिशत ग्राहकों पिछले छह महीनों में ई-कॉमर्स साइट्स से नकली सामान मिलने की शिकायत की।
* 35 प्रतिशत ने कहा कि सबसे ज्यादा परफ्यूम और सुगंध वाले सामान में नकली प्रोडक्ट मिले।
* 22 प्रतिशत ने कहा कि उन्हें खेल के नकली सामान मिले, जबकि 35 प्रतिशत ने कहा कि उन्हें कॉस्मेटिक वाले नकली सामान मिले।
* 49 प्रतिशत ने कहा कि ई-कॉमर्स वेबसाइट्स को यह स्वीकार करना चाहिए और प्रोडक्ट की पूरी कीमत के साथ पेनाल्टी भी देनी चाहिए।

बता दें कि दिल्ली हाईकोर्ट ने हाल ही में आदेश दिया था कि ई-कॉमर्स वेबसाइट यह सुनिश्चित करें कि वे जो सामान बेच रहे हैं, वह सही हो। हाल ही में अमेजन आैर फिल्पकार्ट को ड्रग कंट्रोलर जनरल आॅफ इंडिया (डीसीजीआई) ने कथित तौर पर ‘नकली और मिलावटी’ कॉस्मेटिक के साथ इंपोर्टेड सामान बेचने के लिए नोटिस भेजा था। यदि वे इसका उचित जवाब नहीं देते हैं, तो उन्हें कार्रवाई का भी सामना करना पड़ सकता है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App