ताज़ा खबर
 

लीवर की हर परेशानी से बचाएंगे ये तीन आसन, जानें क्या है करने की विधि

शराब ज्यादा पीने से या फिर धूम्रपान करने से लीवर के खराब होने की संभावना ज्यादा होती है। इसके अलावा ज्यादा नमक और खट्टा खाने से भी लीवर खराब हो जाता है।
धनुरासन

लीवर हमारे शरीर का एक महत्वपूर्ण अंग है। इसका काम हमारे शरीर में वसा का पाचन करना तथा आंतों के हानिकारक कीटाणुओं का खात्मा करना होता है। स्वस्थ शरीर के लिए लीवर का स्वस्थ रहना बेहद जरूरी है। शराब ज्यादा पीने से या फिर धूम्रपान करने से लीवर के खराब होने की संभावना ज्यादा होती है। इसके अलावा ज्यादा नमक और खट्टा खाने से भी लीवर खराब हो जाता है। ऐसे में लीवर को खराब करने वाली इन आदतों से परहेज करना बेहद जरूरी है। इन सबके अलावा अगर आप अपना लीवर स्वस्थ रखना चाहते हैं तो आपको नियमित व्यायाम भी करना चाहिए। आज हम आपको योग के कुछ ऐसे आसनों के बारे में बताने वाले हैं जिनका नियमित अभ्यास आपको लीवर की हर समस्या से छुटकारा दिलाने में मददगार हो सकता है।

कपालभाति प्राणायाम – इसे करने के लिए सबसे पहले आप सिद्धासन, पदमासन या वज्रासन में बैठ जाएं। इसके बाद गहरी सांस लें और इसे नाक से निकालें। एक बार सांस लेने की क्रिया पांच से दस सेकेंड के बीच होनी चाहिए। इसमें सबसे ज्यादा ध्यान आपको सांस निकालने पर देना है। इस योग को रोजाना पंद्रह मिनट के लिए करें। इसे करने से लीवर की कार्यक्षमता सुधरती है।

गोमुख आसन – लीवर से विषैले पदार्थों को बाहर निकालने में ये आसन काफी लाभकारी है। ये आसन लिवर सिरोसिस के लिए बेहतर माना जाता है। इसे करने के लिए पालथी मारकर बैठ जाएं। फिर बाएं पैर को मोड़कर बाएं तलवे को दाएं हिप्स के पीछे लाएं और दाएं पैर को मोड़कर दाएं तलवे को बाएं हिप्स के पीछे लाएं। फिर हथेलियों को पैरों पर रखें। इसके बाद हिप्स पर हल्का दवाब डालें और शरीर के ऊपरी भाग को सीधा रखें। अब बायीं कोहनी को मोड़कर हाथों को पीछे की ओर ले जाएं, सांस को खीचते हुए दाएं हाथ को ऊपर उठाएं। दायीं कोहनी को मोड़कर दाएं हाथ को पीछे ले जाएं फिर दोनों उंगलियों को आपस में जोड़ें। दोनों हाथों को हल्के-हल्के अपनी ओर खींचें।

नौकासन – नौकासन करने के लिए सबसे पहले शवासन की मुद्रा में लेट जाएं। अब एड़ी और पंजे को मिलाएं और दोनों हाथों को कमर से सटा लें। अपनी हथेली और गर्दन को जमीन पर सीधा रखें। इसके बाद दोनों पैरों, गर्दन और हाथों को धीरे-धीरे उठाएं। आखिर में अपना वजन हिप्स डाल दें। करीब 30 सेकेंड तक ऐसे ही रहें। और धीरे-धीरे शवासन अवस्था में लेट जाएं।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. No Comments.