ताज़ा खबर
 

महंगाई और बेरोजगारी का जिक्र कर बोले सुरजेवाला- वाह चंदाजीवी…मोदी है तो यही मुमकिन है

सोमवार को रणदीप सुरजेवाला ने राम मंदिर के जमीन सौदे में लगे भ्रष्टाचार के आरोपों की जांच उच्चतम न्यायालय की निगरानी में करवाने की मांग की थी।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और कांग्रेस नेता रणदीप सुरजेवाला (फोटो- इंडियन एक्सप्रेस)

कांग्रेस पार्टी केंद्र सरकार पर लगातार हमलावर है। कोरोना संकट और महंगाई को लेकर पार्टी की तरफ से नरेंद्र मोदी सरकार पर हमला बोला जा रहा है। कांग्रेस के मुख्य प्रवक्ता रणदीप सुरजेवाला ने ट्वीट कर महंगाई और बेरोजगारी का जिक्र करते हुए सरकार को निशाने पर लिया।

रणदीप सुरजेवाला ने अपने ट्वीट में लिखा कि“महंगाई” और “बेरोजगारी” दोनों में आपने भारत को विश्व गुरु बना दिया! वाह चंदाजीवी ! मान गए आपको। मोदी है तो यही मुमकिन है। अपने एक अन्य ट्वीट में उन्होंने लिखा कि गलवान में देश की सीमा की रक्षा करते हुए अपने प्राण न्योछावर करने वाले सभी वीर सपूतों को सादर नमन। हमारे 20 योद्धाओं को शहीद हुए 1 साल हो गया। चीनी आज भी हमारी ज़मीन पर जबरन क़ाबिज़ हैं। मोदी सरकार देश की रक्षा में विफल रही है।

बताते चलें कि सोमवार को रणदीप सुरजेवाला ने राम मंदिर के जमीन सौदे में लगे भ्रष्टाचार के आरोपों की जांच उच्चतम न्यायालय की निगरानी में करवाने की मांग की थी। भाजपा और आरएसएस पर तीखा हमला बोलते हुए कांग्रेस के मुख्य प्रवक्ता रणदीप सुरजेवाला ने आरोप लगाया था कि यह एक ‘बड़ा घोटाला’ है। उन्होंने इस मामले में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से जवाब की मांग भी की थी।

कांग्रेस नेता सुरजेवाला ने कहा था कि भगवान श्री राम आस्था के प्रतीक हैं। पर भगवान राम की अलौकिक अयोध्या नगरी में श्री राम मंदिर निर्माण हेतु करोड़ों लोगों से एकत्रित चंदे का दुरुपयोग और धोखाधड़ी महापाप और घोर अधर्म है, जिसमें भाजपाई नेता शामिल हैं। कांग्रेस नेता ने कहा था कि राम मंदिर निर्माण के लिए इस ट्रस्ट का गठन देश के उच्चतम न्यायालय के निर्देश पर किया गया है। जब यह घोटाला और इसके तथ्य सामने हैं, तो देशवासियों की ओर से हमारी मांग है कि प्रधानमंत्री उपरोक्त सवालों का देश को जवाब दें तथा देश के प्रधान न्यायाधीश व उच्चतम न्यायालय पूरे मामले का संज्ञान लेकर न्यायालय की निगरानी में जांच करवाएं।’’

उन्होंने यह मांग भी की थी कि उच्चतम न्यायालय मंदिर निर्माण के चंदे के रूप में प्राप्त राशि व खर्च का न्यायालय के तत्वाधान में ऑडिट करवाए , मंदिर निर्माण के लिए मिले चंदे से खरीदी गई सारी जमीन की कीमत के आंकलन के बारे भी जांच करे तथा न्यायालय देशवासियों व भक्तजनों के समक्ष वह ऑडिट रिपोर्ट सार्वजनिक करे।

Next Stories
1 एलआईसी का आईपीओ आते ही मुकेश अंबानी की रिलायंस नहीं रहेगी देश की सबसे बड़ी कंपनी, आखिर क्या कहते हैं आंकड़ें
2 सेपरेशन के 4 साल बाद जब एक कमरे में राजेश खन्ना से मिलीं डिंपल कपाड़िया, दोनों के बीच हुई थी ये बात
3 इंटरनेट सर्विस के लिए मुकेश अंबानी के Jio का बड़ा दांव, इधर एलन मस्क को लगा झटका
आज का राशिफल
X