ताज़ा खबर
 

समय पर क्यों नहीं लागू किया लॉकडाउन? कोरोना कंट्रोल करने में नाकाम रहने पर प्रधानमंत्री से कई घंटे हुई पूछताछ

रॉयटर्स की रिपोर्ट के मुताबिक, कोरोना वायरस को लेकर लापरवाही के आरोपों के बाद इटली के प्रधानमंत्री ज्यूसेप कोंटे से लोक अभियोजकों ने कई घंटे तक पूछताछ की है।

इटली के प्रधानमंत्री ज्यूसेप कोंटे से लोक अभियोजकों ने कई घंटे तक पूछताछ की। (REUTERS/Tony Gentile/File Photo)

कोरोना वायरस के प्रकोप से पूरा विश्व परेशान है। इटली में भी कोरोना वायरस का संक्रमण कहर बनकर सामने आया और हजारों लोग मारे गए। कोरोना को कंट्रोल करने में नाकाम रहने पर देश के प्रधानमंत्री के पूछताछ की जा रही है। रॉयटर्स की रिपोर्ट के मुताबिक, कोरोना वायरस को लेकर लापरवाही के आरोपों के बाद इटली के प्रधानमंत्री ज्यूसेप कोंटे से लोक अभियोजकों ने कई घंटे तक पूछताछ की है।

इटली का बरगैमो उन इलाकों में शामिल है जहां कोरोना से सबसे अधिक नुकसान पहुंचा। बरगैमो के प्रॉसेक्यूटर्स ने इटली के प्रधानमंत्री ज्यूसेप कोंटे से शुक्रवार को करीब 3 घंटे पूछताछ की। जिसमें उनसे लॉकडाउन पॉलिसी को लेकर कई सवाल पूछे गए। लोगों का कहना है कि सरकारी लापरवाही की वजह से संक्रमण फैला। सरकार ने समय रहते कोरोना वायरस के हॉटस्पाट को सील नहीं किया।

इस महामारी की चपेट में आकर मारे गए लोगों के परिजनों ने सरकार पर कोताही बरतने का आरोप लगाते हुए जाँच की मांग की है। परिवार वालों का आरोप है कि अधिकारियों ने लोम्बार्डी में लॉकडाउन लगाने में काफ़ी ढीलाई बरती थी। लोम्बार्डी इटली में कोरोना महामारी फैलने के केंद्र में था। इस पूछताछ से पहले रोम में प्रधान मंत्री कार्यालय के बाहर संवाददाताओं से बात करते हुए पीएम ने कहा था कि मैं बिल्कुल चिंतित नहीं हूं। मैं लोगों से बात करूंगा और तथ्यों को उनके सामने रखूँगा।

प्रधानमंत्री से पूछताछ के लिए बरगैमो से अभियोजक रोम पहुंचे हैं। बरगैमो मिलान के पास एक शहर है। बरगैमो शहर में कोरोना महामारी की वजह से बड़ी संख्या में लोग मारे गए थे। इसके बाद ही मार्च में पूरे इटली में लॉकडाउन लगाया गया था। बरगैमो के प्रॉसेक्यूटर्स इस बात का पता लगा रहे हैं कि क्यों समय रहते लॉकडाउन नहीं किया गया, जिसकी वजह से ये शहर कोरोना से बुरी तरह तबाह हो गया।

पीएम ज्यूसेप कोंटे के अलावा बर्गामो के मुख्य अभियोजक मारिया क्रिस्टीना रोटा की अगुवाई वाली टीम ने इटली के आंतरिक मंत्री लुसियाना लामोर्गिस और स्वास्थ्य मंत्री रॉबर्टो स्पेरन्ज़ा से भी पूछताछ की। यह टीम पता लगाने की कोशिश कर रही है कि क्या प्रधानमंत्री ने आपराधिक लापरवाही तो नहीं की। इटली के प्रधानमंत्री का कहना है कि लोम्बार्डी में विपक्षी पार्टी की सरकार है और उन्हें लॉकडाउन लागू करने का पूरा अधिकार था। पूछताछ का फोकस, लॉकडाउन पॉलिसी पर था।

बता दें कि करीब 6 करोड़ की आबादी वाले इटली में कोरोना वायरस से अबतक 236305 लोग संक्रमित हुए हैं। जबकि 34223 लोगों की मौत हो चुकी है।

Next Stories
1 पानी पर दौड़ना सिखाएंगे विद्युत जामवाल
2 उर्वशी हैं बेहद रोमांचित
3 LAC पर चीन को कड़ा जवाबः सेना ने जारी किया VIDEO, शेयर कर बोले मोदी के मंत्री- देखें लद्दाख में ऐसी है भारत की तैयारी
आज का राशिफल
X