ताज़ा खबर
 

Air Strike के सबूत मांगने पर बोले अनिल विज- अगली बार जब आतंकियों पर बम गिराएं तो महागठबंधन के नेताओं को नीचे खड़ा कर देना

भारतीय वायुसेना द्वारा की गई एयर स्ट्राइक पर विपक्षी नेता लगातार सबूत मांग रहे हैं। ऐसे में हरियाणा के मंत्री अनिल विज ने कहा कि अगली बार जब आतंकियों पर बम फेंके जाएं तो महागठबंधन के नेताओं को वहां खड़ा किया जाए।

हरियाणा मंत्रीः अनिल विज फोटो सोर्सः इंडियन एक्सप्रेस

पाकिस्तान के बालाकोट में भारतीय वायुसेना द्वारा की गई एयर स्ट्राइक पर विपक्षी नेता लगातार सबूत मांग रहे हैं। ऐसे में हरियाणा के खेल मंत्री अनिल विज ने पलटवार किया है। उन्होंने ट्वीट करके लिखा, ‘‘अगली बार भारत जब पाकिस्तान में छिपे आतंकवादियों पर बम गिराए तो महागठबंधन के नेताओं को नीचे खड़ा कर देना चाहिए, ताकि वे लाशें खुद गिन सकें।’’

विपक्षी नेता मांग रहे सबूत : बता दें कि 26 फरवरी को पाकिस्तान के बालाकोट में भारतीय वायुसेना ने एयर स्ट्राइक की थी। सबसे पहले पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने एयर स्ट्राइक को लेकर सबूत मांगा। इसके बाद अन्य विपक्षी नेता भी आतंकियों के मरने की जानकारी साझा करने की बात कहने लगे। वहीं, यह विवाद तब बढ़ गया, जब बीजेपी के राष्ट्रीय प्रवक्ता अमित शाह ने कहा कि भारतीय वायुसेना ने एयर स्ट्राइक में 250 आतंकियों को मार गिराया था। हालांकि, सरकार की तरफ से इस मामले में कोई औपचारिक बयान या आंकड़ा जारी नहीं किया गया।

विज ने कहा विपक्ष का सवाल उठाना गलतः हरियाणा के मंत्री अनिल विज ने कहा, ‘‘हमारी सेना ने बहादुरी दिखाते हुए बालाकोट के आतंकी ठिकानों को खत्म किया। विपक्ष वायुसेना की प्रशंसा करने की जगह उनकी बहादुरी पर सवाल उठा रहा है। कोई खेतों में बम गिरने की बात कर रहा है तो कोई लाशें गिनवाने की। ऐसा कहने वालों का इलाज यही है कि अगली बार जब बम फेंके जाएं तो महागठबंधन के नेताओं को खड़ा किया जाए ताकि वे खुद ही लाशें गिन लें।’’

वायुसेना ने आंकड़ा जारी करने से किया इनकार : बता दें कि भारतीय वायुसेना एयर चीफ मार्शल बीएस धनोआ ने 4 मार्च को प्रेस कॉन्फ्रेंस की थी। इसमें उन्होंने एयर स्ट्राइक में मारे गए आतंकियों की संख्या की जानकारी देने से मना कर दिया। उन्होंने कहा कि हमारा मकसद टारगेट हिट करना होता है। हम गिनती नहीं करते कि कितने मरे हैं। यह सरकार का काम है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App