X

पूर्वी निगम बिना लाइसेंस वाली सभी डेयरियां करेगा सील

पूर्वी दिल्ली नगर निगम के वेटरनरी विभाग के उपनिदेशक डॉ एमएल शर्मा कहते हैं कि दिल्ली में सिर्फ डेयरी कॉलोनी व ग्रामीण गांवों में डेयरी चलाई जा सकती है, लेकिन इसके लिए लाइसेंस जरूरी है। निगम में मिल्क टैक्स इंस्पेक्टर बने हुए हैं जो इनसे दुग्ध टैक्स वसूलते हैं और कार्रवाई करते हैं।

गोकुलपुरी में प्रदेश भाजपा अध्यक्ष व सांसद मनोज तिवारी की ओर से एक डेयरी की सील तोड़े जाने के बाद पूर्वी दिल्ली नगर निगम इस मामले में और सख्त हो गया है। निगम ने बिना लाइसेंस वाली सभी डेयरियों को सील करने का फैसला लिया है। यहां तक कि डीडीए की ओर से आबंटित गाजीपुर डेयरी फार्म कॉलोनी की डेयरियां भी सील की जाएंगी। इस कॉलोनी में डेयरी चलाना अवैध नहीं है, लेकिन बिना लाइसेंस के डेयरी नहीं चलाई जा सकती है। निगम ने कार्रवाई की तैयारी कर ली है और इसके लिए पुलिस बल की मांग की है। गाजीपुर में डेयरियों के लिए 926 भूखंड हैं। इनमें 100, 200 और 400 वर्ग मीटर के भूखंड हैं। ये भूखंड उन डेयरी संचालकों को दिए गए थे जो शहरी क्षेत्र में डेयरी चला रहे थे।

पूर्वी दिल्ली नगर निगम के वेटरनरी विभाग के उपनिदेशक डॉ एमएल शर्मा कहते हैं कि दिल्ली में सिर्फ डेयरी कॉलोनी व ग्रामीण गांवों में डेयरी चलाई जा सकती है, लेकिन इसके लिए लाइसेंस जरूरी है। निगम में मिल्क टैक्स इंस्पेक्टर बने हुए हैं जो इनसे दुग्ध टैक्स वसूलते हैं और कार्रवाई करते हैं। नियमानुसार एक गाय या भैंस के लिए 12 वर्ग मीटर की जगह होनी चाहिए। इतनी जगह में इनके दो बच्चे रह सकते हैं। इसके अलावा पशु के नहाने और उनके पीने के लिए साफ पानी की व्यवस्था होनी चाहिए। गोबर के निस्तारण की व्यवस्था भी होनी चाहिए। डेयरी का ढलान ऐसा नहीं होना चाहिए कि गोबर को नालियों में बहा दिया जाए। वे कहते हैं कि बिना लाइसेंस संचालित व मानकों का पालन नहीं करने वाली डेयरियों पर कार्रवाई शुरू कर दी गई है, जो लगातार चलेगी।

पूर्वी दिल्ली निगम क्षेत्र में डेयरियों की संख्या सैकड़ों में है, लेकिन निगम से लाइसेंस लेने वाले गिनती के ही हैं। निगम के शाहदरा उत्तरी जोन में 62 और शाहदरा दक्षिणी जोन में मत्र 12 डेयरियों ने निगम से लाइसेंस लिया है। निगम के वेटरनरी विभाग ने पिछले एक हफ्ते में 24 अवैध डेयरियों को सील किया है। शाहदरा उत्तरी क्षेत्र में 19 और शाहदरा दक्षिणी क्षेत्र में 6 डेयरियां सील हुई हैं। उधर गोकलपुरी गांव में जिस डेयरी की सील सांसद मनोज तिवारी ने तोड़ी थी उसकी सील खोलने के लिए निगम ने कई दस्तावेज मांगे हैं। इस संबंध में निगम ने डेयरी मालिक प्रेमपाल सिंह से जमीन के कानूनी दस्तावेज, पुश्तैनी जमीन में हिस्से के कागजात के अलावा कितने हिस्से में पशुपालन हो रहा था और कितने में मकान बना हुआ था, इसकी भी पूरी जानकारी मांगी है। उपरोक्त विवरण मिलने के बाद अधिकारी सील खोलने की प्रक्रिया शुरू की जाएगी।

Outbrain
Show comments