ताज़ा खबर
 

‘मोदी सरकार के लिए खरीदार ही देव, किसान दुश्मन’, बोले कांग्रेस नेता तो BJP के संबित पात्रा का जवाब- आपके तो पहले से बिके हैं…MoU भेजूं?

कांग्रेस ने सरकारी उपक्रमों को बेचने के केंद्र सरकार के फैसले पर कहा कि एक ओर सरकार जनता पर महंगाई का बोझ डाल रही है और वहीं जनता के पैसे से खड़े किए सरकारी उपक्रमों को निजी हाथों में सौंप रही है।

sambit patraबीजेपी प्रवक्ता संबित पात्रा (फोटो सोर्सः ट्विटर@sambitswaraj)

एक टीवी डिबेट में कांग्रेस प्रवक्ता ने मोदी सरकार पर आरोप लगाया कि पीएम के लिए ग्राहक भगवान की तरह से हैं जबकि किसानों को वह अपना दुश्मन मानते हैं। बीजेपी प्रवक्ता ने उन्हें जवाब देते हुए कहा कि आपके तो दोनों ही (सोनिया गांधी, राहुल गांधी) बिके हुए हैं। उनका कहना था कि 2008 का MoU भेजूं। उनका इशारा चीन की कम्युनिस्ट पार्टी और कांग्रेस के बीच 2008 में साइन हुए MoU को लेकर था।

कांग्रेस प्रवक्ता अखिलेश प्रताप सिंह ने कहा कि मोदी सरकार सब कुछ बेचने पर तुली हुई है। उन्होंने सरकारी उपक्रमों को बेचने के केंद्र सरकार के फैसले पर कहा कि एक ओर सरकार जनता पर महंगाई का बोझ डाल रही है और वहीं जनता के पैसे से खड़े किए सरकारी उपक्रमों को निजी हाथों में सौंपने का फैसला ले रही है। सरकार को अपने इस फैसले पर पुनर्विचार करना चाहिए।

बीजेपी के संबित पात्रा ने कांग्रेस पर कटाक्ष करते हुए कहा कि उनके नेताओं के पास केवल एक ही काम है। और वह है पीएम मोदी की आलोचना। उनका कहना था कि सरकार देश हित में फैसला ले रही है। उनका कहना था कि सरकार का मानना है कि किसान को कैसे बिचौलियों और मंडी व्यवस्था के चंगुल से मुक्त कराया जाए। उनका कहना था कि इतिहास गवाह है कि जब भी बड़े परिवर्तन होते हैं तब ऐसे लोग अड़चनें पैदा करते हैं जो इस काम में मोटा पैसा बना रहे थे।

अखिलेश ने कहा कि मोदी कहते हैं कि देश नहीं बिकने दूंगा जबकि जनता की कमाई से चल रहे कमाऊ सरकारी संस्थानों को बेचने का फैसला ले रहे हैं। उन्होंने कहा कि स्टील अथॉरिटी ऑफ इंडिया जैसे उपक्रम को पूर्ववर्ती सरकारों ने इसलिए शुरू किया था, क्योंकि निजी समूह इस सेक्टर में पैसे नहीं लगा रहा था। उनका कहना था कि सरकार देश हित के साथ ऐसा करके खिलवाड़ कर रही है।

उनका कहना था कि अभी भी निजी समूह उन्हीं संस्थानों को खरीदेंगे जिसमें कई एकड़ जमीन और अन्य संपत्ति जुड़ी होगी। उनका कहना था कि पूरी मोदी कैबिनेट सिर्फ एक काम में व्यस्त है कि मीडिया को कैसे कंट्रोल किया जाए। सरकार के मंत्री और बीजेपी के तमाम नेता 24-7 केवल अखबारों और चैनलों पर नजर रख रहे हैं पर किसानों की समस्या को दूर करने के लिए सरकार के पास समय तक नहीं है।

Next Stories
1 धर्मेंद्र चुनाव लड़ने के लिए भर चुके थे हामी लेकिन हो रहा था पछतावा, शीशे में मार लिया था सिर; बाजपेयी की एक बात दिल को छू गई थी
2 पेट की गर्मी खत्म कर दूंगा, योगी आदित्यनाथ ने कहा पेट दर्द के इलाज का बयान था, माइनॉरिटी वोट पर भी बोले
3 महेंद्र सिंह टिकैत: सीएम को चूल्लू में पिलाया था पानी, मंच पर सुनाई थी खूब खरी-खोटी
ये पढ़ा क्या?
X