scorecardresearch

योगी आदित्यनाथ गिना रहे थे सरकार की उपलब्धि, वरिष्ठ पत्रकार ने पेश कर दी अपराधों की लिस्ट, लोग भी भड़के

ट्विटर पर योगी आदित्यनाथ अपनी उपलब्धियां गिना रहे थे तो लोग हाथरस काण्ड का जिक्र करने लगे।

UP CM, Yogi Adityanath, UP election
यूपी के सीएम मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ(फोटो सोर्स: ट्विटर/@myogiadityanath)।

योगी आदित्यनाथ इस वक्त चुनाव प्रचार में व्यस्त हैं। पांच साल मुख्यमंत्री रहने के बाद अब उनके ऊपर दोबारा से बीजेपी को सत्ता में वापस लाने की चुनौती है। योगी आदित्यनाथ जब से मुख्यमंत्री बने हैं, तब से ही क़ानून व्यवस्था को लेकर बड़े-बड़े दावे करते हैं लेकिन कुछ घटनाएं ऐसी है जिनकी वजह योगी सरकार की खूब किरकिरी हुई और विपक्ष को हमला बोलने का मौका भी मिला ।

योगी आदित्यनाथ ने गिनाई सरकार की उपलब्धि: शुक्रवार को योगी आदित्यनाथ ने ट्वीट करते हुए लिखा कि “वे थे तो राम भक्तों पर गोलियां चलीं। शिवभक्त कांवड़ियों की यात्राएं रद्द हुईं। सैफई महोत्सव के कारनामे हुए। हम हैं तो श्री रामलला के विराजमान का स्वप्न साकार हुआ। शिवभक्त कांवड़ियों पर हेलीकॉप्टर से पुष्पवर्षा हुई। ‘दीपोत्सव’, ‘रंगोत्सव’ उत्तर प्रदेश की पहचान बने”।

वरिष्ठ पत्रकार ने दिया ये जवाब: योगी आदित्यनाथ के इस ट्वीट पर जवाब देते हुए पत्रकार संजय शर्मा ने रिट्वीट करते हुए लिखा कि …और किसानों पर गाड़ी चढ़ायी गयी! बांदा में पंद्रह में से ग्यारह नौकरी ठाकुरों को दी गयी! हाथरस में दलित लड़की रेप के बाद पैट्रोल डालकर फूंक दी गयी! गोरखपुर में नशे में चूर इंस्पेक्टर ने नौजवान की हत्या कर दी! कुंभ में करोड़ों के घोटाले हुए! कोई विभाग ऐसा नहीं जहां कमीशन बढ़ा नही!

योगी आदित्यनाथ इस ट्वीट के जरिए बताना चाह रहे थे कि पिछली सरकारों में किस तरह से हिन्दुओं के त्योहारों पर रोक लगाकर, अन्य कार्यक्रम आयोजित किए जाते थे लेकिन उनकी सरकार आने के बाद कावड़ यात्रा, अयोध्या, मथुरा और काशी में सरकार ने विकास योजनाएं शुरू की हैं । इसी पर पत्रकार संजय शर्मा ने जवाब देते हुए योगी सरकार में हुए सबसे बड़े अपराधों का भी जिक्र कर दिया।

आम लोगों की प्रतिक्रियाएं: इसी पर प्रतिक्रिया देते हुए हर्ष चौधरी नाम के सोशल मीडिया यूजर ने लिखा कि यूपी के हर जिले में एसएसपी से लेकर डीएम तक सभी ठाकुरों को चार्ज दे रखा है। थाना प्रभारी से लेकर चौकी इंचार्ज तक ठाकुर बने बैठे हैं । योगी आदित्यनाथ शर्म करो, जातिवाद का नतीजा अबकी बार ऐसा मिलेगा कि यूपी में 300+सीट क्या बताते हो, मुश्किल से 30 सीटें भी बीजेपी नहीं निकाल पाएगी ।

गौरव कुमार ने लिखा कि ना हमें रामभक्तों से मतलब है, ना राम मंदिर से, ना कांवड़ से। हमें मतलब है शिक्षा, स्वास्थ्य, बेरोजगारी और धर्मनिरपेक्ष बातों से। विजय मिश्रा ने लिखा कि कुछ लोग रोजगार मंहगाई पर हंगामा खड़ा करते हैं, लेकिन यह पूछने पर जवाब नहीं देते कि उत्तरप्रदेश में अखिलेश, बिहार में तेजस्वी, बंगाल में ममता, दिल्ली में केजरीवाल और बाकी राज्यों में कांग्रेस ऐसा कौन सा रोजगार देते हैं और मंहगाई कम करते हैं, जो 20 से 30 प्रतिशत एक खास वोट बैंक उन्हें ही वोट करता है।

बता दें कि विपक्ष का आरोप है कि चुनाव में हार के डर से बीजेपी धर्म के मुद्दों को राजनीति में इस्तेमाल कर रही है। वहीं बीजेपी का आरोप है कि धुव्रीकरण करने के लिए अखिलेश यादव जिन्ना और पाकिस्तान का सहारा ले रहे हैं।

पढें ट्रेंडिंग (Trending News) खबरें, ताजा हिंदी समाचार (Latest Hindi News)के लिए डाउनलोड करें Hindi News App.

अपडेट