ताज़ा खबर
 

शख्स ने भैंस को बताया पिता तो भड़के योगेश्वर दत्त, ऐसे दिया करारा जवाब

खुद को पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी और बंगाल का प्रशंसक बताने वाले इस शख्स ने दत्त के ट्वीट को रिट्वीट करते हुए ये विवादित बात कही।

Yogeshwar Dutt facebook post, JNU row, Afzal Guru,Yogeshwar Dutt, Hanumanthappa, Afzal marty, jnu news, Yogeshwar Dutt viral post, योगेश्‍वर दत्‍त, फेसबुक पोस्‍ट, जेएनयू विवादयोगेश्‍वर दत्‍त ने जेएनयू विवाद पर कविता के जरिए कही है अपनी बात।

ओलंपिक मेडल विजेता योगेश्वर दत्त को तब बहुत बुर लग जब एक शख्स ने हिंदुओं की आस्था का मजाक उड़ाते हुए विवादित ट्वीट कर दिया। ट्विटर यूजर अगनिवो नियोगी ने ट्वीट करते हुए लिखा, ‘गाय हमारी माता है, भैंस हमारे पिता हैं।’ शख्स के ट्वीट के जवाब में योगेश्वर दत्त ने जवाब देते हुए लिखा, ‘पहली बात तो तुम भैंस को पिता बना नहीं सकते क्योंकि वह भी स्त्रीलिंग हैं। बात आस्था की है जो तुम जैसे मंदबुद्धि नहीं समझ सकते।’ दरअसल इस विवाद की शुरुआत तब हुई जब योगेश्वर दत्त ने एक ट्वीट करते हुए लिखा, ‘जिस देश में गाय को मां का दर्जा दिया जाता है वहीं उसका सरेआम कत्ल किया जाता है। अभी भी समय है सुधर जाओ नहीं तो इसके भयंकर परिणाम भुगतने पड़ेंगे।’ खुद को पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी और बंगाल का प्रशंसक बताने वाले इस शख्स ने दत्त के इसी ट्वीट को रिट्वीट करते हुए ये विवादित बात कही।

वहीं योगेश्वर दत्त के इस ट्वीट पर कई यूजर्स ने अपनी प्रतिक्रियाएं दी हैं। ट्विटर यूजर ताहिर रिहान लिखते हैं, ‘तुम गायें भैंस में ही रहोगे या कुछ खेल में पदक भी जीतोगे।’ सत्य साधक नरेंद्र एक तस्वीर शेयर करते हुए लिखते हैं, ‘चलो कितनी आस्था है देखते हैं। बैन हटाकर व्यापार को नंबर वन बनाया। फिर उनके पुरस्कार भी दे रहे हो और बदले में चंदा ले रहे हो।’ साधक नरेंद्र एक अन्य ट्वीट में लिखते हैं, ‘संगीत सोम और कई समर्थकों के बूचड़खाने चल रहे। बीफ खाने का समर्थन भी करते हैं। मौकापरस्ती की राजनीति करते हैं और फिर कहते हैं गाय हमारी माता है।’ एक और ट्वीट कर नरेंद्र लिखते हैं, ‘डंके की चोट पर बीफ खाने का दावा करते हैं फिर चुनौती भी देते हैं। खुले आम बीफ पार्टी होती है। और फिर गाय हमारी माता है भी करते हैं।’

दूसरी तरफ परेश रावल नाम के यूजर लिखते हैं, ‘करारा जवाब दिया है भाई।’ डे29 लिखते हैं, ‘अगर बात आस्था की है तो गोवा में ना बिक रहे होते।’ एक यूजर सवाल करते हुए पूछते हैं, ‘इसका जवाब है योगेश्वर आपके पास? गोवा में बैन क्यों नहीं लगाया जा रहा है।’ सुशील कुमार लिखते हैं, ‘मूर्खों को उपदेश देा स्वयं मूर्ख बनने के समान है।’ राज बाबा लिखते हैं, ‘कारारा जवाब, बहुत सही।’

तुम गयें भैंस ही में रहोगे या कुछ खेल में पदक भी जीतो गे

— Tahir Rehan (@tahirehan) June 24, 2017

चलो कितनी आस्था है देखते हैं : बैन हटाकर व्यापार को नम्बर एक बनाया। फिर उनको पुरस्कार भी दे रहे और बदले में चंदा ले रहे। #गाय_हमारी_माता pic.twitter.com/JWcdCgZjY5

— ‘सत्य’ साधक नरेन्द्र (@narendraksonkar) June 24, 2017

संगीत सोम और कई समर्थकों के बूचडखाने चल रहे। बीफ खाने का समर्थन भी करते हैं। मौकापरस्ती की राजनीति करते हैं और : #गाय_हमारी_माता pic.twitter.com/AtlRnuxuLI

— ‘सत्य’ साधक नरेन्द्र (@narendraksonkar) June 24, 2017

Iska jawab hai yogi bhai tumhare paas ? Goa mein ban nahi lagaya jaraha hai…

— Sameer (@Sameer_A_Gaffar) June 24, 2017

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 बबीता फोगाट के ट्वीट पर लोग बोले – तुम्हें BJP ने खरीद लिया
2 मौलाना अंसार रजा का अलगाववादी नेताओं पर वार, बोले- चार आदमी है पकड़ कर गर्दन मार दो, कश्मीर में अमन आ जाएगा
3 दिग्विजय सिंह ने खुद से पूछा एक सवाल, लोगों ने ताने मार-मार कर दिए कैसे-कैसे जवाब, पढ़िए
ये पढ़ा क्या ?
X