ताज़ा खबर
 

छेड़छाड़ पर चुप नहीं रहना, डटकर करना होगा मुकाबला

दिल्ली पुलिस के आंकड़ों के मुताबिक साल 2015 में केवल दिल्ली शहर में छेड़छाड के 1444 केस दर्ज हुए।

Author September 28, 2016 12:46 PM
‘सावधान इंडिया’ कार्यक्रम का एक दृश्य।

भारतीय समाज के इतिहास को खंगाले तो पता लगता है कि भारत का समाज हमेशा पुरुष प्रधान ही रहा है। लेकिन इस पुरुष प्रधान समाज में भी महिलाओं ने बुलंदियों के कई झंडे गाड़े हैं। लेकिन महिलाओं के लिए यह डगर कोई आसान नहीं रही। महिलाओं को इस दौरान कई समस्याओं से जूझना पड़ा। इन समस्याओं में छेड़छाड़ भी एक अहम समस्या है। आज के समय में भारत के बड़े शहरों से लेकर छोटे शहरों और गांवों तक में छेड़छाड़ की समस्या ने बड़ा रूप धारण कर रखा है। लड़कियों के साथ छेड़छाड़ ना केवल सूनसान जगहों पर होती है, बल्कि लड़कियां भीड़ वाली जगहें जैसे, सिनेमा हॉल, पार्क, शॉपिंग मॉल में भी सेफ महसूस नहीं करती हैं। लड़कियों पर भद्दे कमेंट कसना, जबरन छूना या जबरन बात करने की कोशिश करने जैसी हरकतें की जाती हैं। ये छेड़छाड़ करने वाले पुरुष केवल अनपढ़ या कम पढ़े लिखे लोग ही नहीं, बल्कि इनमें शिक्षित लोग भी शामिल होते हैं।

पिंक मूवी में अमिताभ बच्चन का एक डायलॉग है, ‘लड़कियों का कैरेक्टर घड़ी की सुई देखकर तय किया जाता है।’ यह डॉयलॉग आज के समाज की सच्चाई बयान करती है। इसके साथ ही इस मूवी में बच्चन ने कहा है, ‘सेव बॉयज, नॉट गर्ल्स’ इसका सीधा सा मतलब है कि अगर आप अपने लड़कों को बचाएंगे तो लड़कियां अपने आप सेफ हो जाएंगी। मतलब आपने लड़कियों के लिए घर आने की समय सीमा तय कर रखी है, लेकिन लड़कों के लिए कोई सीमा नहीं है।

दिल्ली पुलिस के आंकड़ों के मुताबिक साल 2015 में केवल दिल्ली शहर में छेड़छाड के 1444 केस दर्ज हुए, अगर इन्हें प्रति दिन के हिसाब से देखा जाए तो यह एक दिन में करीब चार मामले छेड़छाड़ के दर्ज होते हैं। लेकिन यह आंकड़ें बहुत ही कम हैं। दिल्ली जैसे शहर में हर रोज ऐसे सैंकड़ों मामले होते हैं। लड़कियां डर की वजह से पुलिस तक जाती ही नहीं हैं। लड़कियों को पुलिस का या उन छेड़छाड़ करने वालों का डर नहीं बल्कि समाज का डर लगता है। कई बार तो समाज के तथाकथित ठेकेदार लड़कियों को ही इन सबके के लिए जिम्मेदार ठहरा देते हैं। उनका कहना है किलड़कियां ही कम कपड़े पहनकर पुरुषों को ये सब हरकतें करने के लिए उकसाती हैं।

ऐसी घटनाओं को लेकर लड़कियों का रवैया रहता है, चलो छोड़ो मामला बढ़ाने से कुछ हासिल नहीं होगा। इसके पीछे भी उनका एक डर छिपा होता है। अगर वह अपने परिवार वालों से यह बात शेयर करती हैं तो घरवाले उनका साथ देने की बजाय उन पर ही पाबंदियां लगा देते हैं। उन्हें घर से बाहर नहीं निकलने देते। इतना ही नहीं, कई केस में तो परिवार वाले लड़की की जॉब तक छुड़वा देते हैं। मामला पुलिस तक पहुंचा तो उन्हें बदनामी का डर लगता है।

हाल ही में मेरी एक दोस्त जयपुर में अपने दफ्तर से रात आठ बजे निकली, लेकिन रास्ते में उसकी स्कूटी खराब हो गई। वह सूनसान सड़क परअपनी स्कूटी को खुद से ही खींचकर ले जा रही थी। ऐसे में सड़क पर जाने वाले लोग उसकी मदद करने की बजाय उस पर कमेंट पास करते हुए जा रहे थे। लड़की ने दूसरे दिन दफ्तर आकर बताया तो सब लोगों ने कहा कि तुम्हें घर पर फोन करना चाहिए था या किसी और को बताना चाहिएथा। पुलिस में शिकायत दर्ज करानी चाहिए थी। लेकिन उसका एक ही जवाब था कि अगर मेरे घर वालों को पता लग जाता तो वे मेरी नौकरी छुड़वा देते।

देर शाम या रात तो छोड़िए लड़कियां दिन में भी सेफ नहीं हैं। लेकिन लड़कियां कुछ आसान टिप्स के जरिए ऐसी स्थितियों से निपट सकती हैं। अब उन्हें इन सब से डरने की जरूरत नहीं है। लड़कियों को डांस, संगीत, गिटार या अन्य क्लासेज के साथ सेल्फ डिफेंस, मार्शल आर्ट, जूडो-कराटे की क्लास भी लेनी चाहिए। इसके साथ ही लड़कियों को अपनी सुरक्षा के लिए पिन, छोटा चाकू, मिर्च पाउडर अपने साथ रखना चाहिए। आज के समय में हर राज्य में पुलिस ने महिला हेल्पलाइन नंबर जारी कर रखा है। ऐसी किसी स्थिति में तुरंत हेल्पलाइन नंबर डायल करके मदद ली जा सकती है। साथ ही अगर उस इलाके में आपका कोई जानकार रहता है तो उसे कॉल करके भी बुला सकती हैं।

इस समस्या से ना केवल लड़कियों को खुद लड़ना होगा, बल्कि परिवार वालों को भी उनका साथ देना होगा। परिवार वालों को इसे अपनी बदनामी से जोड़कर नहीं देखना चाहिए। उन्हें अपनी लड़कियों का साथ देना चाहिए। ताकि वे अपने पंख लगाकर अपनी मंजिल को पाने के लिए उड़ान भर सकें। लड़कियों की इस जंग में उनका साथ देने के लिए टीवी चैनल लाइफ ओके ला रहा है रियलिटी शो सावधान इंडिया का एक और सीजन। 26 सितंबर, 2016 से। इसका मकसद लोगों, खास कर महिलाओं को ऐसे अपराधों का डट कर मुकाबला करने और इनके‍ खिलाफ आवाज उठाने के लिए प्रेरित करना है।

शो के बारे में और जानने के लिए क्लिक करें: https://www.hotstar.com/channels/life-ok

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App