यूपी में बत्ती गुल होने पर रामलीला के कलाकारों ने मोमबत्ती लेकर किया प्रदर्शन

उत्तर प्रदेश के मुरादाबाद में रामलीला के कलाकारों का एक वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा है।

Uttar Pradesh, Yogi Adityanath
यूपी में बत्ती गुल होने पर रामलीला के कलाकारों ने मोमबत्ती लेकर सड़क पर किया प्रदर्शन (फोटो सोर्स – सोशल मीडिया)

यूपी के कई जिलों में बिजली का संकट बढ़ता जा रहा है। ऐसे में एक वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा है, जिसमें मुरादाबाद के रामलीला में राम-रावण का किरदार निभा रहे कलाकार बिजली की कटौती से परेशान होकर हाथ में मोमबत्ती लेकर मंच पर ही धरना दे रहे हैं। इस वीडियो को शेयर करते हुए लोग यूपी सीएम योगी आदित्यनाथ पर निशाना साध रहे हैं।

रामलीला में राम का किरदार निभा रहे कलाकार ने कहा कि हर साल कमेटी को लाइट की सुविधा दी जाती थी। लेकिन इस बार यह सुविधा ना मिलने से दिक्कत का सामना करना पड़ रहा है। उन्होंने बताया कि लाइट ना होने के कारण हम मोमबत्ती लेकर रामलीला का मंचन कर रहे हैं। कई बार मुरादाबाद के बिजली और प्रशासनिक कार्यालय के साथ-साथ आयोजन कमेटी के सदस्यों ने नगर निगम से भी इस पर बात की लेकिन बिजली की व्यवस्था नहीं हो पाई।

स्थानीय कांग्रेस नेता अशोक बसोया ने यह वीडियो शेयर करते हुए लिखा कि उत्तर प्रदेश की रामलीला में लाइट चली गई तो प्रभु राम नाराज… योगी जी जवाब दो। कांग्रेस नेता संजय निरुपम ने इस वीडियो को लेकर कहा कि सचमुच कलयुग है। यूपी के स्वनामधन्य राम राज्य में बिजली के लिए स्वयं राम कैंडल लाइट प्रदर्शन कर रहे हैं।

रवीश कुरैशी (@RavishQurashi9) टि्वटर हैंडल से लिखा गया कि अब तो मान जाओ योगी जी, भगवान राम परेशान हो गए हैं। आरएलडी के नेता प्रशांत कनौजिया ने वीडियो पर प्रतिक्रिया देते हुए कहा कि यही तो राम राज्य है, जहां राम, सीता और लक्ष्मण जी खुद प्रदर्शन कर रहे हैं क्योंकि उत्तर प्रदेश में बिजली नहीं आती।

सपा नेता राजीव राय ने मोदी सरकार पर हमला बोलते हुए लिखा कि याद है ना मोदी जी का डायलॉग, 24 घंटे बिजली… 56 इंच का सीना..? सुमन (@sumannager) टि्वटर हैंडल से लिखा गया कि मोदी के ‘रामराज’ में राम जी को भी धरने पर बैठना पड़ रहा है। जानकारी के लिए बता दें कि बिजली की समस्या पर सीएम योगी आदित्यनाथ ने अधिकारियों के साथ बैठक करने के बाद निर्देश दिए हैं कि शाम 6 बजे से सुबह 7 बजे तक बिना किसी कटौती के विद्युत आपूर्ति सुनिश्चित की जाए।

पढें ट्रेंडिंग समाचार (Trending News). हिंदी समाचार (Hindi News) के लिए डाउनलोड करें Hindi News App. ताजा खबरों (Latest News) के लिए फेसबुक ट्विटर टेलीग्राम पर जुड़ें।

अपडेट