किसान नेता ने लोकतंत्र पर उठाया सवाल तो बिफर पड़े एंकर, कहा – इसी लोकतंत्र के नाम पर दो बॉर्डर किए हैं जाम

एक लाइव शो के दौरान किसान नेता ने देश में लोकतंत्र खत्म होने की बात कही तो एंकर अमीश देवगन ने उनपर भड़कते हुए कहा कि इसी लोकतंत्र के नाम पर किसान आंदोलन चल रहा है।

Farmer Protest, Delhi Border
किसान नेता ने लोकतंत्र पर उठाया सवाल तो बिफर पड़े एंकर (फोटो सोर्स – पीटीआई)

एक न्यूज़ चैनल पर लखीमपुर खीरी में हुई घटना को लेकर हो रही डिबेट के दौरान भारतीय किसान यूनियन के नेता पुष्पेंद्र चौधरी ने लोकतंत्र को लेकर सवाल उठाया तो एंकर उन पर बिफर पड़े। एंकर ने किसान नेता को जवाब देते हुए कहा, इसी लोकतंत्र में दो बॉर्डर जाम करके किसान आंदोलन किया जा रहा है।

न्यूज़ 18 इंडिया के शो ‘आर – पार’ में चल रही डिबेट के दौरान किसान नेता पुष्पेंद्र चौधरी ने सरकार से सवाल पूछा कि कैसा लोकतंत्र इस देश में चला रखा है? उन्होंने योगी आदित्यनाथ सरकार में मंत्री मोहसिन रजा की बात करते हुए कहा कि वह कह रहे हैं हमने 45 लाख रुपए दे दिए। किसी व्यक्ति के जीवन से ज्यादा महत्वपूर्ण पैसा है क्या? किसान नेता द्वारा लोकतंत्र पर उठाए गए सवाल का जवाब देते हुए एंकर अमीश देवगन ने कहा कि इसी लोकतंत्र में 10 महीने से किसान आंदोलन चल रहा है।

एंकर ने सुप्रीम कोर्ट का जिक्र करते हुए कहा कि न्यायालय के कहने के बाद भी इस देश में किसान आंदोलन चल रहा है। दो से तीन बॉर्डर आप लोगों ने जाम कर रखे हैं इसी लोकतंत्र के नाम पर… कोई कहने और पूछने वाला नहीं है? एंकर अमीश देवगन किसान नेता पर चिल्लाते हुए कहा कि इसी लोकतंत्र के नाम पर लाल किले पर दूसरे धर्म का झंडा फहरा दिया जाता है।

उन्होंने आपकी बात को आगे बढ़ाते हुए कहा इसी लोकतंत्र के नाम पर मोबाइल के टावर तोड़ दिए जाते हैं। इसी लोकतंत्र पर आपकी तरफ से खूब सवाल पूछे जा रहे हैं। आपको इस लोकतंत्र में विश्वास नहीं है, इसी लोकतंत्र से बने….इसी लोकतंत्र से आपका आंदोलन बन रहा है लेकिन आज इसी लोकतंत्र पर सवाल है। मेरे सवाल का जवाब दीजिए।

एंकर ने लखीमपुर खीरी की घटना के बाद आए वीडियो का जिक्र करते हुए कहा, गाड़ी ने किसानों को रौंदा आपके अनुसार… और जो वीडियो में दिख रहा है। लोकतंत्र के अंदर जो गाड़ी चला रहे थे वह भी नहीं बचे… ड्राइवर को पीट पीट कर मार डाला लेकिन चार की बात होगी लोग की बात नहीं होगी तो ऐसा नहीं चलेगा। इसी लोकतंत्र में यह सवाल भी पूछा जाएगा, कि यह हिंसा है। एक्ट ऑफ वायलेंस के अंतर्गत दोनों पार्टियों पर कार्रवाई होती है। क्या आप कार्रवाई के लिए तैयार हैं?

पढें ट्रेंडिंग समाचार (Trending News). हिंदी समाचार (Hindi News) के लिए डाउनलोड करें Hindi News App. ताजा खबरों (Latest News) के लिए फेसबुक ट्विटर टेलीग्राम पर जुड़ें।