ताज़ा खबर
 

वायरल वीडियो: नोटबंदी को लेकर बच्चे ने पीएम मोदी से कहा- परेशान कर दिया यार

यह वीडियो सोशल मीडिया साइट्स पर काफी शेयर किया जा रहा है।

बच्चा नोटबंदी को लेकर पीएम मोदी की आलोचना कर रहा है।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 500 और 1000 रुपए के पुराने नोट बंद करने का ऐलान आठ नवंबर को किया था। साथ ही पीएम मोदी ने वादा किया था कि स्थिति कुछ दिनों में ही सुधर जाएगी। लेकिन नोटबंदी के 36 दिन बाद भी लोग कैश के लिए परेशान हो रहे हैं। बैंकों और एटीएम के बाहर काफी लंबी लाइनें देखने को मिल रही हैं। कई एटीएम मशीनों में तो कैश तक नहीं है। ग्रामीण इलाकों में तो स्थिति और भी ज्यादा खराब है, जहां बैंक और एटीएम मशीन से लोग कैश नहीं निकाल पा रहे हैं।

जहां सरकार ई-वॉलेट या अन्य माध्यम से कैशलेस ट्रांजेक्शन को बढ़ावा देने के लिए विज्ञापन दे रही है, वहीं भारत में कुछ इलाके तो ऐसे हैं, जहां पर बिजली तक नहीं है। वहीं देश में कई व्यापारी इन माध्यमों का इस्तेमाल करने में कंफर्ट महसूस नहीं करते। ऐसे में लोगों को डेली इस्तेमाल में आने वाला चीजों को खरीदने में भी दिक्कत हो रही है।

इस सबके बीच एक छोटे बच्चे का वीडियो इंटरनेट पर छाया हुआ है। वीडियो में बच्चा पीएम मोदी की आलोचना करता हुआ नजर आ रहा है। बच्चे को एक लेडी ने गोद में ले रखा है। इसके बाद लेडी जो भी बोल रही है, बच्चा वही शब्द दोहरा रहा है। बच्चा लेडी की बातों को बहुत ही क्यूट तरीके से दोहराता हुआ नजर आ रहा है। लेडी एक वाक्य बोलती है, उसके बाद बच्चा उस वाक्य को दोहराता है।

वीडियो में बच्चा बोल रहा है, ‘मोदी ने परेशान कर दिया है। हम लोग क्या खाएंगे। हम लोग क्या पिएंगे। हम गरीब लोग है। जमीन पर सोते हैं। मोदी ने हाहाकार मचा दिया है। 500 रुपए नहीं हैं, 1000 रुपए नहीं हैं। क्या खाएं। क्या पिएं। राशन नहीं है घर में। ऐसी की तेसी मोदी की। पागल है मोदी। परेशान कर दिया यार। बंदा करे तो क्या करे। हमने थोड़ा कालाधन कमाया है। हमारे पास नहीं है काला पैसा। हमारे पास तो सफेद पैसा भी नहीं है। ईलाज कहां से करवाएं। दवाईयां कहां से लाएं। डायपर के पैसे नहीं है।’

वीडियो में बच्चे ने जो बातें कही हैं, उनसे हो सकता है कि आप सहमत हो या नहीं हो। लेकिन बच्चा बहुत ही क्यूट तरीके से पीएम मोदी की आलोचना करता हुआ नजर आ रहा है।

वीडियो में देखें- अटल सरकार के वक्त RBI गवर्नर रहे बिमल जालान ने पूछा- “नोटबंदी अब क्यों…फैसले को सीक्रेट रखने से क्या मदद मिली?”

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App