ताज़ा खबर
 

वीडियो: जब लाइव टीवी पर केंद्रीय मंत्री ने राम मंदिर के लिए हाथ जोड़कर मुस्लिम समुदाय से की विनती

केन्द्रीय मंत्री गिरिराज सिंह ने इंडोनेशिया का हवाला देते हुए कहा कि वहां के लोग भले ही मुस्लिम समुदाय के हों लेकिन वो अभी भी अपना पूर्वज राम को मानते हैं।

केंद्रीय मंत्री गिरिराज सिंह।

यूपी में योगी आदित्य नाथ की सरकार बनते ही राम मंदिर के निर्माण का मुद्दा जोर पकड़ने लगा है। इस मुद्दे पर एक टीवी चैनल पर चर्चा के दौरान केन्द्रीय मंत्री और बिहार बीजेपी के कद्दावर नेता गिरिराज सिंह ने हाथ जोड़कर मुस्लिम समुदाय से विनती की और कहा, ‘ मुस्लिम भाइयों से करबद्ध प्रार्थना है कि भारत में सामाजिक समरसता बनाये रखने के लिए वे पहल करें।’ हिन्दी न्यूज़ चैनल आजतक के साथ बातचीत में गिरिराज सिंह ने कहा कि जब मुस्लिम समुदाय ये ना समझ ले कि इस देश के हिन्दू और मुसलमान दोनों का एक ही वंशज है तब तक इस मुद्दे का समाधान नहीं हो सकता है।’

कुछ ही दिन पहले सुप्रीम कोर्ट ने टिप्पणी की थी कि, ‘अयोध्या विवाद से जुड़े पक्षकारों को इस मामले का समाधान कोर्ट के बाहर ढूंढ़ने की कोशिश करनी चाहिए, और इसके लिए सुप्रीम कोर्ट भी मध्यस्थता करने को तैयार है।’ सुप्रीम कोर्ट की इस टिप्पणी पर ऑल इंडिया मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड के सदस्य फिरंगी महली ने भी प्रतिक्रिया दी थी और कहा था कि,’ उनका संगठन इस विवाद का समाधान कोर्ट से बाहर निकालने के लिए तैयार है।’

देखिए संबंधित वीडियो

केन्द्रीय मंत्री गिरिराज सिंह ने इंडोनेशिया का हवाला देते हुए कहा कि वहां के लोग भले ही मुस्लिम समुदाय के हों लेकिन वो अभी भी अपना पूर्वज राम को मानते हैं। उन्होंने कहा कि अगर भारत के मुस्लिम भी इस मर्म को समझ लें तो ये विवाद तुरंत सुलझ जाएगा। मुसलमानों के खिलाफ कट्टर बयान देने के लिए चर्चा में रहने वाले गिरिराज सिंह के मुताबिक मुस्लिम समुदाय भी हिन्दुओं के अंश हैं, और अगर वे इस तथ्य को स्वीकार कर लें तो कई विवाद खत्म हो सकते हैं। उन्होंने कहा कि तर्कों के आधार पर राम मंदिर-बाबरी मस्जिद विवाद का समाधान संभव नहीं है। गिरिराज सिंह ने कहा कि अगर मुस्लिम समुदाय चाहे तो भारत में सामाजिक समरसता की बेजोड़ मिसाल प्रस्तुत कर सकता है।

संजय लीला भंसाली पर हुए हमले पर केंद्रीय मंत्री गिरिराज सिंह ने कहा-“इतिहास के साथ छेड़छाड़ बर्दाश्त नहीं”

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App