ताज़ा खबर
 

VIDEO: 90 किमी बिना ड्राइवर के चली 268 डिब्‍बों वाली ट्रेन, करवानी पड़ी डिरेल

जब ट्रेन को रोकने के लिए डिरेल कराया गया तो इससे करीब 1.5 किलोमीटर की ट्रैक बर्बाद हो गई, हालांकि इसमें किसी को कोई चोट नहीं आई।

डिरेल होने के बाद ट्रेन के एक के ऊपर एक वैगन पड़े हैं। वैगन में लदा हुआ सामान भी वहीं बिखरा पड़ा है। (Photo: facebook/aussiewriteoffs)

ऑस्ट्रेलिया में एक ट्रेन को डिरेल करना पड़ा। दरअसल ट्रेन का ड्राइवर निरीक्षण करने के लिए अपने वैगन से नीचे उतरा। इतने में ही ट्रेन चल दी। देखते ही देखते ट्रेन नें 110 किलोमीटर की रफ्तार पकड़ ली। ट्रेन में 268 डिब्बे लगे थे। यह ट्रेन करीब एक घंटे तक बिना ड्राइवर के दौड़ती रही। चार लोकोमोटिव ट्रेन के मालिक बीएचपी ने अपने पश्चिमी ऑस्ट्रेलिया पिल्बारा साइट के पास पोर्ट हेडलैंड शहर पहुंचने से पहले इस ट्रेन को डिरेल करने का फैसला किया। इस तरह ट्रेन को डिरेल कराया गया तो इसमें करीब 1.5 किलोमीटर की ट्रैक बर्बाद हो गई, हालांकि इसमें किसी को कोई चोट नहीं आई। द वेस्ट ऑस्ट्रेलियाई द्वारा प्रकाशित फोटोज में ट्रेन के मलबे को दिखाया गया है, जिसमें उनके लोड से ढके कुछ वैगन शामिल थे। इससे जुड़ा एक वीडियो भी सोशल मीडिया में आया है। इस वीडियो को फेसबुक पर aussiewriteoffs ने अपलोड किया है। वीडियो में देखा जा सकता है कि पूरी ट्रेन बुरी हालत में पड़ी है। एक के ऊपर एक वैगन पड़े हैं। वैगन में लदा हुआ सामान भी वहीं बिखरा पड़ा है।

दुनिया में सबसे ज्यादा लोहा पाए जाने वाली जगहों में से एक ऑस्ट्रेलिया भी है। ट्रेन की मालिकान कंपनी ने कहा कि ट्रेन को रिकवर करने के लिए और ट्रैक को चालू करने के लिए 130 लोग काम कर रहे हैं। यह माइनिंग के लिए एक जरूरी रूट है। कंपनी ने 7 नवंबर को कहा कि इस ट्रैक को एक सप्ताह के अंदर अंदर चालू कर लिया जाएगा। माइनिंग की साइट्स पर काम चल रहा है। पोर्ट ऑपरेशन्स को चालू रखने के लिए रिजर्व का इस्तेमाल किया जा रहा है। हालांकि यह रिजर्व उतने समय के लिए काफी नहीं है जितने समय में ट्रैक को ठीक किया जाएगा। इस बारे में हम अपने कमिटमेंट्स को लेकर अपने ग्राहकों के साथ संपर्क करेंगे।

ऑस्ट्रेलियाई परिवहन सुरक्षा ब्यूरो ने कहा कि यह घटना की जांच कर रहा था। ट्रेन के चालक के बिना आगे बढ़ने के कारणों का कोई संकेत नहीं मिला था। बीएचपी ने कहा कि हम जांच के नतीजे पर अनुमान लगा सकते हैं हालांकि हम उचित अधिकारियों के साथ काम कर रहे हैं और हमारा ध्यान हमारे परिचालनों की सुरक्षित रिकवरी पर है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App