ताज़ा खबर
 

वीडियो: ‘मोदी राज में मुस्लिमों के हौसले बुलंद हो गए’ विहिप नेता के इस बयान पर भड़क गए मौलाना, दिया ये जवाब

मदरसे की शिक्षा को लेकर राकेश सिन्‍हा और आबिद आपस में भिड़ गए।
(Picture Source: Screenshot)

गो-रक्षा के नाम पर हिंसा की बढ़ती घटनाओं पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने सख्‍त टिप्‍पणी की है। गुजरात में मोदी ने कहा कि “समाज में हिंसा की कोई जगह नहीं है। गौ-भक्ति के नाम पर लोगों की हत्या स्वीकार नहीं की जाएगी। महात्मा गांधी आज होते तो इसके खिलाफ होते। आज मैं कुछ शब्द कहना चाहता हूं और कुछ चल रही चीजों पर दुख प्रकट करता हूं। हिंसा से कभी किसी समस्या का समाधान न हुआ है और न होगा। इस देश में किसी व्यक्ति को कानून को अपने हाथों में लेने का अधिकार नहीं है।” मोदी के इस बयान के बाद विभिन्‍न टीवी चैनलों पर जोरदार बहसें देखने को मिलीं। जी न्‍यूज पर ‘ताल ठोंक के’ कार्यक्रम में संघ विचारक राकेश सिन्‍हा, बीजेपी प्रवक्‍ता संबित पात्रा, कांग्रेस प्रवक्‍ता आलोक शर्मा, विश्‍व हिंदू परिषद के प्रवक्‍ता विनोद बंसल, गौरक्षा सेना के आचार्य विक्रमादित्‍य और आईएमआरसी के अब्‍दुर्रहमान आबिद मौजूद थे। बहस के बीच वीएचपी प्रवक्‍ता ने कहा कि ‘मोदी सरकार आने के बाद मुसलमानो के हौसले बुलंद हो गए।’ इस पर आबिद ने उन्‍हें घेर लिया।

आबिद ने पूछा, ”आप मोदी का नाम ले रहे हैं। मैं कह रहा हूं कि मोदी सरकार आने के बाद सड़कों पर गुंडागर्दी बढ़ी है। लोगों की भीड़ के द्वारा जान ले लेने का फैशन अभी आया है।” इसके बाद बहस किसी तरह आगे बढ़ी। फिर मदरसे की शिक्षा को लेकर राकेश सिन्‍हा और आबिद आपस में भिड़ गए। आबिद ने आरोप लगाया कि संघ अपने लोगों को हथियार चलाने की ट्रेनिंग देता है। इसपर राकेश सिन्‍हा ने कहा, ”आप गलत शब्‍द मत बोलिए। मदरसों में इस तरह की मानसिकता तैयार होती है। मदरसों की मानसिकता बदलिए।” इस पर आबिद ने कहा कि ‘मैं आपको दावत देता हूं कि आप मेरे साथ आइए किसी मदरसे में।’ इस पर राकेश सिन्‍हा ने कहा, ”मालदा में क्‍या हुआ, 90 परसेंट मदरसों में अवैध गतिविधियां हो रही हैं। राष्‍ट्रगान लाने वालों की पिटाई की जाती है, वंदेमातरम गाने नहीं दिया जाता।”

बहस का वीडियो देखें:

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. No Comments.