ताज़ा खबर
 

VIDEO: ‘कौन मुख्यमंत्री, यहां मेरी सरकार.., दम है तो सीज करके दिखाओ मेरा पेट्रोल पंप’

वीडियो में सफेद कुर्ता पायजामा पहने एक शख्स पुलिस अधिकारियों समेत कुछ अन्य सरकारी अधिकारियों के साथ गाली-गलौच और बदतमीजी करते दिखाई दे रहा है।

तस्वीर वायरल हो रहे वीडियो का स्क्रीनशॉट है।

उत्तर प्रदेश में योगी आदित्यनाथ के मुख्यमंत्री बनने के बाद एसटीएफ ने लखनऊ में 27 अप्रैल को पेट्रोल पंप की डिस्पेंसिंग मशीनों में चिप लगाकर तेल चोरी करने का देश के सबसे बड़े रैकेट का भंडाफोड़ किया था। पकड़े गए शख्स ने कबूल किया था कि उसने तमाम पेट्रोल पंपों पर तेल चोरी की एक हज़ार चिप लगाई हैं। पकड़े गए शख्स के खुलासे के बाद से पूरे प्रदेश भर के पेट्रोल पंपों पर छापेमारी तेज हो गई। इस छापेमारी में तमाम रसूखदारों के पंपों पर भी प्रशासन ने कार्रवाई की। इसी कड़ी में एक वीडियो सोशल मीडिया पर पिछले दो दिनों से वायरल हो रहा है। इस वीडियो में सफेद कुर्ता पायजामा पहने एक शख्स पुलिस अधिकारियों समेत कुछ अन्य सरकारी अधिकारियों के साथ गाली-गलौच और बदतमीजी करते दिखाई दे रहा है। ये शख्स सरकारी अधिकारियों को धमकाते हुए कह रहा है कि कौन मुख्यमंत्री, ‘यहां मेरी सरकार.., दम है तो सीज करके दिखाओ मेरा पेट्रोल पंप।’

वीडियो में बताया गया है कि इस शख्स के पेट्रोल पंप के अंदर वो चिप फिट थी जिससे तेल की चोरी की जाती थी। इसी शिकायत के बाद जब प्रशासन की तरफ से कार्रवाई के लिए लोग वहां पहुंचे तो वह शख्स उनके साथ दबंगई करने लगा। ये शख्स कौन है और कहां का है इस बारे में स्पष्ट जानकारी तो नहीं मिली है लेकिन उसकी भाषा से लग रहा है कि ये मामला पूर्वी उत्तर प्रदेश का है।

आपको बता दें कि एसटीफ के खुलासे से ये पता चला था कि रिमोट दबाने पर चिप लगे पेट्रोल डिस्पेंसिंग मशीन पर मीटर तो उसी रफ्तार से चलता है, लेकिन नोजल से तेल कम निकलता है। एसटीएफ के मुताबिक, एक लीटर में 50 से 100 एमएल तक तेल चोरी किया जाता है। एसटीएफ का अंदाजा है कि एक चिप से पेट्रोल चोरी करने वाला पेट्रोल पंप एक महीने में 12 से 15 लाख रुपये का पेट्रोल चोरी कर लेता है। इसी तरह एक साल में 100 पेट्रोल पंप से करीब 150 करोड़ रुपये के तेल की चोरी तो केवल एक शख्स की चिप लगाने से होती है। उत्तर प्रदेश में 6000 पेट्रोल पंप हैं जिनमें करीब 60,000 नोजल हैं।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App