scorecardresearch

मुंबई : सीट के लिए लोकल ट्रेन में भिड़ीं महिलाएं, चले मुक्के और खींचे बाल, वीडियो वायरल

सोशल मीडिया पर वायरल हो रहे वीडियो पर कई तरह के कमेंट किए जा रहे हैं।

मुंबई : सीट के लिए लोकल ट्रेन में भिड़ीं महिलाएं, चले मुक्के और खींचे बाल, वीडियो वायरल
यह वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा है (फोटो सोर्स – वायरल वीडियो/ स्क्रीनग्रैब)

सोशल मीडिया पर कई तरह के वीडियो वायरल होते रहते हैं। इस बीच महाराष्ट्र के मुंबई से वीडियो सोशल मीडिया पर सामने आया है। जिसको लेकर दावा किया जा रहा है कि महिलाएं सीट को लेकर एक – दूसरे से भिड़ गईं हैं। वायरल वीडियो में देखा जा सकता है कि महिलाएं एक-दूसरे का बाल भी खींच रही हैं। जिस पर कई तरह के रिएक्शन आ रहे हैं।

सीट को लेकर हुई झड़प

सोशल मीडिया पर वायरल हो रहे वीडियो में दिखाई दे रहा है कि पहले महिलाएं एक – दूसरे से बहस कर रही हैं, इस बीच एक – दूसरे से मारपीट भी करने लगती हैं। एक महिला ने तो दूसरी महिला का मुंह पकड़ कर दबा दिया तो वहीं उस महिला ने बाल पकड़ कर खींच लिया। इस वीडियो में देखा गया की लड़ाई के दौरान 2 महिला यात्रियों के सिर से खून भी निकल रहा है।

महिला पुलिसकर्मी पर भी बिफर पड़ीं महिलाएं

सोशल मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक सीट के लिए हो रही मारपीट के बीच जब एक महिला पुलिसकर्मी रोकने के लिए पहुंची तो महिलाओं ने उन पर भी हमला कर दिया। पुलिस की ओर से इस मामले पर बताया गया कि एक सीट खाली होने पर एक महिला यात्री दूसरी महिला को पीट देने की कोशिश कर रही थी लेकिन इसी बीच तीसरी महिला ने उस सीट पर कब्जा करने की कोशिश की। जिसके बाद तीनों महिलाओं के बीच बहस होने लगी और उसके बाद मारपीट करने लगी।

यूजर्स के रिएक्शन

प्रयाग नाम के ट्विटर यूजर कमेंट करते हैं कि भाई इतनी लड़ाई के बीच खतरा लेकर वीडियो किसने सूट कर लिया है? नेहा नाम की एक ट्विटर यूजर ने लिखा, ‘ये तब तनाव का नतीजा है, जीवन में काम, रिश्तों और खालीपन का बोझ बढ़ता जा रहा है। जिसका नतीजा है ये। रमेश नाम के ट्विटर यूजर हंसने वाली इमोजी के साथ कमेंट करते हैं – किस्सा कुर्सी का। प्रशांत भारद्वाज नाम के ट्विटर हैंडल से लिखा गया कि कोमल है लेकिन कमजोर नहीं तू।

अनुभव त्रिपाठी नाम के एक यूजर पूछते हैं कि मेरी छोरियां छोरों से कम हैं क्या? यशवंत नाम के एक यूजर ने रेलवे को टैग करते हुए लिखा – इन सभी पर कार्रवाई होनी चाहिए। रजनीश नाम के एक यूजर ने कमेंट किया कि कुर्सी के लिए बहुत सारी जंग लड़नी पड़ती है। वसीम सिद्धकी नाम के ट्विटर यूजर द्वारा लिखा गया, ‘ इन शहरों से बेहतर तो हमारे गांव हैं, कम से कम यहां पर संस्कार तो है।’

पढें ट्रेंडिंग (Trending News) खबरें, ताजा हिंदी समाचार (Latest Hindi News)के लिए डाउनलोड करें Hindi News App.

First published on: 07-10-2022 at 02:40:15 pm
अपडेट