ताज़ा खबर
 

UP में महागठबंधन पर ट्विटर यूजर्स ने कहा- डियर BJP डरो मत, कांग्रेस में सबको साथ लाने की ताकत

अखिलेश यादव के नेतृत्व में बनने वाले कांग्रेस-समाजवादी पार्टी समेत छह पार्टियों के महागठबंधन के आकार को अंतिम रूप दे दिया गया है।

Author January 18, 2017 6:12 AM
ट्विटर पर शेयर की जरा रही राहुल गांधी की पिक्चर।

उत्तर प्रदेश में बिहार के बाद एक बार फिर महागठबंधन बन गया है। अखिलेश यादव के नेतृत्व में बनने वाले कांग्रेस-समाजवादी पार्टी समेत छह पार्टियों के महागठबंधन के आकार को अंतिम रूप दे दिया गया है। पार्टियों के बीच उत्तर प्रदेश के किन इलाकों में कितनी सीटों का विभाजन होगा, इसका फार्मूला भी तय कर लिया गया है। कांग्रेस महासचिव गुलाम नबी आजाद, प्रदेश अध्यक्ष राज बब्बर और अशोक गहलोत के साथ अखिलेश यादव के दूत के रूप में रामगोपाल यादव और नरेश अग्रवाल ने मुलाकात की। सपा और कांग्रेस- दोनों पार्टियां अब अपने-अपने उम्मीदवारों की सूची तैयार कर रही हैं। इसके बाद महागठबंधन का औपचारिक एलान कर दिया जाएगा। अब इसके बाद ट्विटर पर बीजेपी पर जमकर निशाना साधा गया। डियर बीजेपी डरो मत मंगलवार को ट्विटर पर ट्रेंड कर रहा था। यूजर्स ने जमकर बीजेपी पर कटाक्ष किए और बिहार के बाद एक बार फिर महागठबंधन से ना डरने की बात कही।

संभावित महागठबंधन में कांग्रेस और समाजवादी पार्टी के अलावा राष्ट्रीय लोक दल, राष्ट्रीय जनता दल, संजय निषाद की निषाद पार्टी, महान दल, पीस पार्टी, अपने दल (अनुप्रिया पटेल की मां की अगुआई वाला धड़ा) और जनता दल (एकीकृत) शामिल होंगे। उत्तर प्रदेश कांग्रेस के अध्यक्ष राज बब्बर के अनुसार, ‘उत्तर प्रदेश में हम जीत के लिए लड़ेंगे। उसके बाद 2019 के चुनाव में केंद्र में भाजपा को आने से रोकने का एजंडा लेकर हम चल रहे हैं।’ सीटों पर उम्मीदवारों के नाम तय कर लेने के बाद अगले हफ्ते कांग्रेस और समाजवादी पार्टी अपने-अपने घोषणापत्र जारी करेंगे। इससे पहले गठबंधन के स्वरूप का औपचारिक एलान कर दिया जाएगा। औपचारिक एलान के पहले राहुल गांधी और अखिलेश यादव की बैठक होगी। यह बैठक अगले दो-एक दिनों में होनी है।
मंगलवार की बैठक में जो फार्मूला आया, उसके अनुसार उत्तर प्रदेश की कुल 403 विधानसभा सीटों में से समाजवादी पार्टी ने कांग्रेस के लिए 103 सीटें छोड़ी हैं। इन 103 सीटों में से 89 पर कांग्रेस के उम्मीदवार चुनाव लड़ेंगे। जबकि, 14 सीटों पर समाजवादी पार्टी के नामित उम्मीदवार कांग्रेस के चुनाव चिह्न पर मैदान में उतरेंगे। राष्ट्रीय लोकदल को 20 सीटें मिली हैं। हालांकि, रालोद के अजीत सिंह 28 सीटों की मांग कर रहे हैं।