ताज़ा खबर
 

संयुक्‍त राष्‍ट्र में भाषण के बाद सुषमा स्‍वराज की वाहवाही, लोगों ने बताया आयरन लेडी

विदेश मंत्री सुषमा स्‍वराज के संयुक्‍त राष्‍ट्र महासभा में दिए भाषण की सोशल मीडिया पर जोरदार तरीके से तारीफ की जा रही है।

विदेश मंत्री सुषमा स्‍वराज के संयुक्‍त राष्‍ट्र महासभा में दिए भाषण की सोशल मीडिया पर जोरदार तरीके से तारीफ की जा रही है। (Photo:AP)

विदेश मंत्री सुषमा स्‍वराज के संयुक्‍त राष्‍ट्र महासभा में दिए भाषण की सोशल मीडिया पर जोरदार तरीके से तारीफ की जा रही है। सुषमा ने भाषण में पाकिस्‍तान पर हमला बोलते हुए कहा कि ‘हमारे बीच एक देश है जो आतंक की भाषा बोलता है, इसे पालता है, पोषता है और इसका एक्‍सपोर्ट करता है। आतंकियों को शरण देना इसका काम बन गया है। हम ऐसे देशों को जिम्‍मेदार ठहराना होगा। ऐसे देशों के लिए राष्‍ट्रों के बीच बैठने की कोई जगह नहीं है।’ पाकिस्‍तानी प्रधानमंत्री नवाज शरीफ के मानवाधिकारों के उल्‍लंघन के आरोपों पर उन्‍होंने कहा, ”जिनके खुद के घर शीशे के बने हो वे दूसरों के घर में पत्‍थर नहीं फेंका करते।”

शरीफ के कश्मीर मुद्दे पर चार शर्तें रखने के जवाब में सुषमा ने कहा कि भारत ने दोस्‍ती के लिए कोई शर्त नहीं रखी। उन्‍होंने कहा, ”हमने जब आपको शपथग्रहण में बुलाया तो क्‍या कोई शर्त रखी थी। जब मैं हर्ट ऑफ एशिया समिट के लिए इस्‍लामाबाद गई तो क्‍या मैंने कोई शर्त रखी थी। जब भारत के प्रधानमंत्री काबुल से लाहौर गए तो क्‍या कोई शर्त थी। हमने बिना शर्त के मुद्दों को सुलझाने की शुरुआत की।”प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने सुषमा स्‍वराज के भाषण की तारीफ की है। उन्‍होंने लिखा, ”विदेश मंत्री सुषमा स्‍वराज को वैश्विक मुद्दों के दृढ़, प्रभावकारी और शानदार अभिव्‍यक्ति के लिए बधाई हो।”

बिना उग्र हुए ही सुषमा ने पाकिस्‍तान पर बोल दिया जोरदार हमला, शराफत से नवाज की पोल भी खोली

गृहमंत्री राजनाथ सिंह ने लिखा, ”संयुक्त राष्ट्र संघ #UNGA में संतुलित, तर्कपूर्ण एवं प्रभावशाली वक्तव्य के लिए सुषमा स्वराज जी को बधाई।” हालांकि कांग्रेस प्रवक्‍ता रणदीप सिंह सुरजेवाला विदेश मंत्री से नाखुश नजर आए। उन्‍होंने लिखा, ”संयुक्‍त राष्‍ट्र में सुषमा स्‍वराज का भाषण निराशाजनक था। मोदी सरकार की आक्रामकता अवास्‍तविक और गुमराह करने वाली है।” वरिष्‍ठ पत्रकार शेखर गुप्‍ता ने कहा, ”बहुत बढि़या, शांत, परिपक्‍व, दृढ़ लेकिन समझने लायक। सुषमा स्‍वराज ने कुछ लाइनों में ही पाकिस्‍तान से लोहा लिया।”