scorecardresearch

Rahul Gandhi : महात्मा गांधी और सावरकर का नाम लेकर एंकर सुशांत सिन्हा ने राहुल गांधी पर साधा निशाना, ऐसे सवाल करने लोग

Viral News : राहुल गांधी ने सावरकर पर सवाल उठाया तो सोशल मीडिया पर एक जंग छिड़ गई। यूज़र्स कई तरह के कमेंट कर रहे हैं।

Rahul Gandhi : महात्मा गांधी और सावरकर का नाम लेकर एंकर सुशांत सिन्हा ने राहुल गांधी पर साधा निशाना, ऐसे सवाल करने लोग
राहुल गांधी वीर सावरकर पर टिप्पणी

भारत जोड़ो यात्रा (Bharat Jodo Yatra) के दौरान कांग्रेस सांसद राहुल गांधी (Rahul Gandhi) बीजेपी (BJP) और स्वतंत्रता सेनानी वीर सावरकर (Veer Savarkar) पर जमकर हमला बोल रहे हैं। उन्होंने गुरुवार को महाराष्ट्र में सावरकर पर टिप्पणी करते हुए अंग्रेजों की मदद करने और डर की वजह से क्षमा याचना करने का आरोप लगाया। इसको लेकर सोशल मीडिया (Social Media) पर एक बहस छिड़ गई है। कुछ लोग कांग्रेस सांसद (Congress MP) के बयान सवाल उठा रहें हैं तो वहीं कुछ लोगों ने उनकी बातों का समर्थन किया है। एंकर सुशांत सिन्हा (Anchor Sushant Sinha) ने अपने एक शो में राहुल के बयान पर निशाना साधा। जिसपर लोग कई तरह के सवाल कर रहे हैं।

एंकर सुशांत सिन्हा ने शो में कही यह बात

टाइम्स नाउ नवभारत चैनल के एक शो में एंकर सुशांत सिन्हा ने एक चिट्ठी दिखाते हुए दावा किया कि,”महात्मा गांधी ने भारत के तात्कालीन गर्वनर जनरल व वायसराय लॉर्ड चेम्सफोर्ड को लिखा था कि मेरे लिए यह सम्मान की बात है, मैं आपका नौकर रहा।” जिसके बाद उन्होंने कहा कि यह राहुल गांधी वाली परिभाषा है। एंकर ने राहुल गांधी पर निशाना साधते हुए कहा,”कल वह सावरकर वाली चिट्टी दिखा रहे थे। कोई इनको यह चिठ्ठी दिखाकर पूछे कि इसका मतलब नौकर होना होता है?”

शेयर किया वीडियो

इस वीडियो को अपने सोशल मीडिया पर शेयर लिखा,”अगर वीर सावरकर राहुल गांधी जी के मुताबिक़ अंग्रेजों के नौकर थे तो छोटा सा ये वीडियो देखकर बताएं कि क्या वो गांधी जी को भी अंग्रेजों का नौकर मानते हैं?” उनके द्वारा शेयर किये वीडियो पर कई तरह के रिएक्शन दे रहे है। कुछ लोग उन्हें ट्रोल करते नजर आ रहे हैं तो वहीं कुछ कई तरह के सवाल करने में लगे हैं।

लोगों के कमेंट्स

सपा नेता राजकुमार भाटी ने एंकर के ट्वीट पर सवाल किया कि,”ज़वाब दें..सावरकर ने अंग्रेजों को माफ़ीनामे लिखे थे या नहीं? माफ़ीनामा मे उन्होने य़ह लिखा था या नहीं कि सरकार मुझे माफ कर दे तो मैं जीवन भर अंग्रेजों का वफादार रहूंगा ? 1947 तक सावरकर ने अपने इस वचन को निभाया या नही? वे अंग्रेज सरकार से मासिक पेंशन पाते थे या नहीं?” रविंद्र त्रिपाठी नाम के यूज़र ने सवाल किया कि क्या सावरकर अंग्रेजों से पेंशन नहीं लेते थे?

सौरभ शुक्ला नाम के एक ट्विटर यूज़र ने कमेंट किया,”सावरकर की तुलना महात्मा गांधी से करना पूरी तरह मूर्खता है।” सोनम नाम की एक यूजर ने लिखा कि विदेश वालों ने पूछना चाहिए कि महात्मा गांधी कौन थे? आपको सब समझ आ जायेगा, खैर ये बताओ कि क्या सावरकर 60 रुपये प्रतिमाह अंग्रेजों से पेंशन नहीं लेते थे?

पढें ट्रेंडिंग (Trending News) खबरें, ताजा हिंदी समाचार (Latest Hindi News)के लिए डाउनलोड करें Hindi News App.

First published on: 18-11-2022 at 11:04:04 am
अपडेट