ताज़ा खबर
 

ओलिंपिक मेडल जीतने का कभी मोदी ने बताया था फॉर्मूला, सोशल मीडिया ने पूछा-कथनी और करनी में फर्क?

वीडियो में मोदी दावा करते नजर आते हैं कि अगर सोच हो तो बड़ी आसानी से ओलिंपिक में काफी सारे मेडल जीते जा सकते हैं।

Author नई दिल्‍ली | August 18, 2016 2:19 PM
पीएम नरेंद्र मोदी। (File Photo)

ओलिंपिक्‍स में ढेर सारे मेडल जीतने का फॉर्मूला बताते हुए पीएम नरेंद्र मोदी का एक वीडियो सोशल मीडिया पर तेजी से वायरल हो रहा है। बताया जा रहा है कि यह वीडियो मोदी के 2013 में पुणे में दिए गए एक भाषण का है। फेसबुक पर नीलेश शिवगांवकर के अकाउंट पर पोस्‍ट किए गए वीडियो को ही सिर्फ बीते 24 घंटे में एक लाख बार देखा गया है। इसके अलावा, वॉट्सऐप पर भी यह वीडियो खूब शेयर किया जा रहा है। इस वीडियो को लेकर पीएम नरेंद्र मोदी आलोचकों के निशाने पर हैं। उनका आरोप है कि 2014 में देश की कमान संभालने के बाद पीएम ने ऐसी कोई व्‍यवस्‍था क्‍यों नहीं कि जिससे ओलिंपिक्‍स में बिना मेडल जीते वापस लौटने का खतरा न हो। बता दें कि रियो ओलिंपिक्‍स 2016 में भारत का प्रदर्शन बेहद औसत रहा। पदक के मामले में 12वें दिन देश का खाता खुला। साक्षी मलिक ने 58 किलोग्राम वर्ग में कांस्‍य जीतकर देश को पहला मेडल दिलाया।

सोशल मीडिया ने जमकर साधा निशाना

क्‍या है मोदी की स्‍पीच में
भाषण में मोदी ओलिंपिक्‍स में भारत के ज्‍यादा पदक न जीत पाने का जिक्र करते हुए कहते हैं, ‘उस समय टीवी में, अखबारों में, नेता, सामाजिक जीवन में सभी यह चर्चा करते हैं कि इतना बड़ा देश गोल्‍ड मेडल नहीं मिला। इतना बड़ा देश मेडल नहीं मिला। फलाना देश यह कर गया। ढिकाना देश यह कर गया। ठीक है स्‍थ‍िति है, लेकिन क्‍या कभी देश की शिक्षा व्‍यवस्‍था को हमने इसके साथ जोड़ा? हमारी युवा पीढ़ी को क्‍या अवसर दिया? और क्‍या मित्रों 120 करोड़ के देश में यह नहीं मिल सकता? अगर सेना के जवानों को यह काम दिया जाए। सेना के जवानों में स्‍पोर्ट्स के रूटीन वाले जो हैं, उनको एक अलग जगह पर रखा जाए। उनको ही ट्रेनिंग देने का काम किया जाए तो मैं आपको बताता हूं मित्रों कि पांच, सात, दस मेडल तो ये हमारे सेना जवान ही ले आएंगे। सोच चाहिए सोच।’

नीचे देखें मोदी का वायरल हो रहा वीडियो। अन्‍य VIRAL VIDEOS देखने के लिए यहां क्‍ल‍िक करें

नीलेश शिवगांवकर के वीडियो पोस्‍ट पर कई लोगों ने तीखी प्रतिक्रियाएं दीं 

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App