scorecardresearch

योगी आदित्यनाथ को 1 महीने के लिए क्यों बनना चाहिए रक्षा मंत्री? इस सवाल पर जानिए खान सर का जवाब

इस इंटरव्यू के दौरान खान सर ने बताया कि वह आठवीं क्लास तक सोचते थे कि वह जीवन में कुछ भी नहीं कर पाएंगे।

योगी आदित्यनाथ को 1 महीने के लिए क्यों बनना चाहिए रक्षा मंत्री? इस सवाल पर जानिए खान सर का जवाब
यूपी के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ (Photo Source – PTI)

सोशल मीडिया की दुनिया में अपने पढ़ाने के अंदाज के कारण चर्चा में रहने वाले खान सर हाल में ही एक न्यूज़ चैनल से बातचीत करने पहुंचे थे। जहां उन्होंने राजनीति के पीछे पर भी पूछे गए कई सवाल के जवाब दिए। इस दौरान उनके पुराने बयान को लेकर सवाल किया गया कि 1 महीने के लिए यूपी सीएम योगी आदित्यनाथ को रक्षा मंत्री क्यों बनना चाहिए? जिसका उन्होंने जवाब दिया।

पत्रकार ने पूछे ऐसे सवाल

‘द लल्लनटॉप’ न्यूज़ चैनल पर चल रहे इंटरव्यू के दौरान पत्रकार सौरभ द्विवेदी ने खान सर से पूछा, ‘आपका एक बयान सोशल मीडिया पर को वायरल हुआ था, जिसमें आपने कहा था कि योगी आदित्यनाथ को 1 महीने के लिए रक्षा मंत्री बना देना चाहिए, चीन ठीक हो जाएगा। ऐसा क्यों कहा था?’

खान सर ने दिया ऐसा जवाब

पत्रकार द्वारा पूछे गए सवाल के जवाब में खान सर ने कहा कि 2020 में गलवान को लेकर भारत और चीन के बीच रस्साकशी चल रही थी। उस समय चीन कुछ ज्यादा ही मनबढ़ हो गया था, वह अगले 20 साल तक लड़ाई नहीं लड़ने वाला है। वह किसी से लड़ाई नहीं करेगा क्योंकि उसे अपनी अर्थव्यवस्था के बारे में पता है। उन्होंने अपनी बात को आगे बढ़ाते हुए कहा, ‘कम्युनिस्ट देश तभी आगे बढ़ सकते हैं, जब उनके पास पैसा होगा। चीन को पता है कि इंडिया जैसे देश से निपटना मुश्किल है क्योंकि अब वह 1962 वाला भारत नहीं है।’

उन्होंने कहा कि इसलिए ही मैंने उस समय कहा था कि अब ऐसा वाला होना चाहिए, जो चीन को कह सके कि आइए हम देखते हैं। इसी कारण मेरी ओर से कहा गया था कि अगर योगी आदित्यनाथ को रक्षा मंत्री बना दिया जाएगा तो धो कर चले आएंगे। इस दौरान उन्होंने यह भी बताया कि वह हमेशा से सेना में जाना चाहते थे लेकिन हाथ में कुछ समस्या होने के कारण वह सेना भर्ती में सफल नहीं हो पाए।

पर्सनल लाइफ के बारे में क्यों बात नहीं करना चाहते हैं खान सर?

इस इंटरव्यू के दौरान पत्रकार ने यह भी पूछा कि क्या आप अपने स्कूल और कॉलेज के बारे में बात नहीं करना चाहते हैं? जिसके जवाब में उन्होंने कहा कि कई बार लोगों में भ्रम हो जाता है कि कहीं विशेष जगह से पढ़े हुए बच्चे ही सफल हो पाते हैं। जो कि मायने नहीं रखता है, पढ़ाई के दौरान आप कितना मन लगा रहे हैं। यह बहुत मायने रखता है। इसके साथ ही उन्होंने अपने विषय में बताया कि कक्षा आठवीं तक उन्हें लगता था कि वह अपने जीवन में कुछ भी नहीं कर पाएंगे।

पढें ट्रेंडिंग (Trending News) खबरें, ताजा हिंदी समाचार (Latest Hindi News)के लिए डाउनलोड करें Hindi News App.

First published on: 27-09-2022 at 11:11:08 pm
अपडेट