ताज़ा खबर
 

गाने के खि‍लाफ अपील जारी करने वाले मौलवियों के विरोध में खड़े हुए जावेद अख्तर, तारिक फतह, तस्लीमा नसरीम

तस्लीमा नसरीम ने ट्वीट करके कहा है कि फतवा जारी करने वाले मौलानों को सजा दी जानी चाहिए।

Author March 16, 2017 4:35 PM
नाहिद आफरीन

असम में गाने और म्‍यूजि‍कल शोज के खिलाफ 42 मौलवियों की ओर से जारी अपील बुधवार को मीडिया में छाई रही। बताया जाता है कि‍ यह अपील दसवीं क्लास में पढ़ने वाली 16 साल की नाहिद आफरीन के खि‍लाफ है। हालांकि‍, अपील में उसका नाम नहीं है। अपील में गाने को गैर इस्लामिक बताते हुए इस पर रोक की मांग की गई है। 16 साल की नाहिद आफरीन 2015 में सिंगिंग के इंडियन आइडल शो में फर्स्ट रनरअप रही थी। दरअसल नाहिदा ने 25 तारीख को एक मस्जिद और एक कब्रिस्तान के आसपास के क्षेत्र में एक कार्यक्रम किया था। मौलवि‍यों की ओर से जारी अपील में कहा गया है कि 25 तारीख को हुआ नाहिद का कार्यक्रम शरिया कानून के खिलाफ भी था। एडीजी (स्पेशल ब्रांच) पल्लब भट्टाचार्य ने कहा कि पुलिस मामले की इस पहलू से भी जांच कर रही है कि कहीं यह अपील नाहिद के आतंकवाद और आईएसआईएस के खिलाफ गाए गाने की वजह से तो नहीं हैं। पुलिस ने कहा कि मामले की नजाकत को देखते हुए नाहिद और उनके परिवार को सुरक्षा प्रदान की जाएगी। अब इस पूरे विवाद में कई जाने माने चेहरे भी कूद पड़े हैं। ट्विटर पर नाहिदा के समर्थन में और अपील जारी करने वाले मौलवियों के खिलाफ कई जाने माने लोगों ने ट्वीट किए।

अपील में कहा गया है कि अगर मस्जिद, ईदगाह, मदरसा या कब्रिस्तान के आसपास के इलाके में म्यूजिकल नाइट जैसे शरिया विरोधी काम किए जाएंगे तो हमारी भावी पीढ़ियों को अल्लाह के क्रोध सहना पढ़ेगा। विश्वनाथ चरियाली में रहने वाली युवा सिंगर को जब इस बारे में पता लगा तो वह हैरान रह गई। उसने कहा कि गाना गाने की कला उन्हें ऊपर वाले से मिली है, जिसको वह कभी नहीं छोड़ेंगी। अगर इस गॉड गिफ्ट का सही इस्तेमाल नहीं करती हैं तो यह ऊपर वाले का ही अपमान होगा।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App