ताज़ा खबर
 

पत्नी से जबरन संबंध बनाने पर सुषमा स्वराज के पति ने कहा कुछ ऐसा कि भड़क गए लोग

'अगर आप जैसा पढ़ा लिखा इंसान इस तरह की बात करता है तो हम एक आम इंसान से क्या उम्मीद करें।'

सुषमा स्वराज और उनके पति स्वराज कौशल की फाइल फोटो।

दिल्ली हाइकोर्ट में मैरिटल रेप को अपराध की श्रेणी से बाहर रखने की सुनवाई के बीच पूर्व राज्यपाल स्वराज कौशल ने कहा है कि मैरिटल रेप जैसी कोई चीज़ नहीं होती, हम अपने घरों को पुलिस थाने नहीं बना सकते। स्वराज कौशल ने मैरिटल रेप पर ये बयान ट्विटर पर एक सवाल का जवाब देते हुए ट्वीट से आया। आपको बता दें कि स्वराज कौशल केंद्रीय विदेश मंत्री सुषमा स्वराज के पति हैं। दरअसल मंगलवार को दिल्ली हाई कोर्ट में एक एनजीओ द्वारा मैरिटल रेप को अपराध घोषित किए जाने की गुहार का विरोध करेने वाली याचिका पर सुनवाई चली। दरअसल दिल्ली हाई कोर्ट में कई अर्जी दाखिल कर उस प्रावधान को चुनौती दी गई है जिसमें कहा गया है कि 15 साल से ज्यादा उम्र की पत्नी के साथ रेप को अपराध नहीं माना जाएगा। इस प्रावधान को गैर-संवैधानिक घोषित किए जाने की गुहार लगाई गई है।

एक यूजर ने स्वराज कौशल से पूछा कि क्या आप मैरिटल रेप के कानून के खिलाफ हैं? इसके जवाब में स्वराज कौशल ने कहा कि मैरिटल रेप जैसी कोई चीज़ नहीं होती, हम अपने घरों को पुलिस थाने नहीं बना सकते।

इससे पहले भी स्वराज कौशल ने एक ट्वीट कर कहा ता कि अगर मैरिटल रेप कानून बन जाएगा तो घरों से ज्यादा पति जेल के अंदर नजर आएंगे।

स्वराज कौशल के इन दोनों ट्वीट पर लोगों ने उनसे भारी असहमति जताई है। कुछ लोगों ने तो बेहद तल्ख लहजे में पूछ लिया कि क्या इसका मतलब ये है कि पत्नियां हमारी गुलाम हैं। वहीं कुछ ऐसे यूजर्स भी हैं जिन्होंने स्वराज कौशल के इस ट्वीट की निंदा करते हुए लिखा कि अगर आप जैसा पढ़ा लिखा इंसान इस तरह की बात करता है तो हम एक आम इंसान से क्या उम्मीद करें।

स्वराज कौशल के इन ट्वीट्स पर महिला यूजर्स ने भी आपनी आपत्ति दर्ज कराते हुए तीखे ट्वीट्स किये हैं। महिलाओं ने लिखा कि आपका ये ट्वीट बताता है कि आप लोग घर में होने वाले क्राइम को क्राइम नहीं मानते फिर चाहे वो चाइल्ड अब्यूज़ हो या फिर किसी अपने द्वारा ही किया गया रेप।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App