गंदी जुबान से राम का नाम मत लेना, पूर्व IAS सूर्य प्रताप सिंह ने योगी आदित्यनाथ पर साधा निशाना

उत्तर प्रदेश में गुरुवार को ब्लॉक प्रमुख चुनाव के लिए नामांकन दाखिल हुए। इस दौरान कई जिलों में हिंसा जवाब लाठीचार्ज से लेकर प्रत्याशी के अपरहण और पर्चा छीनने की बात सामने आई।

BJP Goverment, SP Party
सपा महिला प्रस्तावक की बीच सड़क पर साड़ी खींची गई। (फोटो सोर्स – सोशल मीडिया)

उत्तर प्रदेश में गुरुवार को ब्लॉक प्रमुख चुनाव के लिए नामांकन दाखिल हुए। इस दौरान कई जिलों में हिंसा जवाब लाठीचार्ज से लेकर प्रत्याशी के अपरहण और पर्चा छीनने की बात सामने आई। कई जगह पर दो गुटों में बवाल बढ़ने पर पुलिस को लाठीचार्ज भी करना पड़ा। वहीं लखीमपुर जिले से एक वीडियो सामने आया, जिसमें में देखा जा सकता है कि कुछ लोग सपा प्रत्याशी की महिला प्रस्तावक की बीच सड़क पर साड़ी खींच रहे हैं। इस वीडियो पर लोग सोशल मीडिया पर योगी सरकार पर निशाना साध रहे हैं। इसी वीडियो पर पूर्व IAS सूर्य प्रताप सिंह ने योगी आदित्यनाथ पर हमला बोला है।

उन्होंने ट्वीट करते हुए लिखा कि महिला की साड़ी खींचने वालों अपनी गंदी जुबान से आज के बाद मर्यादा पुरुषोत्तम का नाम तक मत लेना। उनके इस ट्वीट पर लोग अपनी प्रतिक्रिया भी दे रहे हैं। @Shahnaw79490547 ट्विटर अकाउंट से कमेंट आया,’सत्ता में बैठे लोग सिर्फ राम जी का नाम बदनाम कर रहे हैं पता नही भगवान राम इन्हे माफ़ कैसे करेंगे’। एक यूजर ने कमेंट किया कि अगर रामराज मे ऐसा ही होता है और इसी राम राज्य की बात हो रही थी तो धिक्कार है ऐसे रामराज्य का।

एक यूजर ने कमेंट किया कि कोई भरोसा नही साड़ी खींचते समय जय जय श्रीराम का नारा ही लग रहा हो, जिस भीड़ ने पहलू खान और सुबोध जी को मारा वो जय जय श्रीराम का ही उदघोष कर रही थी। गोडसे उपासकों के प्रशिक्षण शिविरों से निकले समाज के सबसे घृणित लोग हे, कुछ तो कारण था। बड़े बूढ़े संघीयो की शक्ल देखना पाप मानते थे।

एक ट्विटर अकाउंट से लिखा गया कि उत्तर प्रदेश में रामराज्य है, या महाभारत खुले आम महिला का चीरहरण हो रहा है। अंसुल यादव नाम के एक ट्विटर यूजर लिखते है कि धर्म और राम नाम से तो घर चलता है इनका इन्हें भगवान देश संस्कृति से कोई लेना-देना नहीं है। एक दूसरे यूजर ने कमेंट करते हुए लिखा कि तब आप राम की बात मत करिए रावण की बात करिए। इनसे तो रावण अच्छा। रावण ने सीता का अपहरण करके भी छुआ तक नहीं। @HariharukUk अकाउंट से इस घटना पर प्रतिक्रिया देते हुए लिखा गया कि समझ में नहीं आता कि इतना सब कुछ देखने के बाद भी इस देश की जनता की आत्मा मर कैसे गई?

@Intizarmehdina1 ट्विटर हैंडल से कमेंट आया कि किसी महिला साड़ी खींचना कहां का इंसाफ है राम जी सब देख रहे हैं राम का नाम लेते हो ऐसे काम करते हो लानत है तुम लोगों पर जो तुम राम जी का नाम बदनाम कर रहे हो राम मर्यादा पुरुषोत्तम राम है। एक यूजर ने लिखा कि भारत की संस्कृति की बात करने वाले दर असल इसको खत्म करने आये हैं, ऐसे ये देश और जनता कितने दिन तक खैर मनाएंगे।

पढें ट्रेंडिंग समाचार (Trending News). हिंदी समाचार (Hindi News) के लिए डाउनलोड करें Hindi News App. ताजा खबरों (Latest News) के लिए फेसबुक ट्विटर टेलीग्राम पर जुड़ें।

अपडेट