ताज़ा खबर
 

375 डिग्री सेंटिग्रेट तापमान वाले ओवन के अंदर डाल दी जिंदा बिल्ली, दूसरा शख्स बना रहा था VIDEO

घटना से जुड़ी फुटेज में काले रंग की बिल्ली नजर आ रही थी। अचानक उसे एक लड़का पकड़ता है और 375 डिग्री सेंटीग्रेट तापमान वाले ओवन में डालने लगा था। आरोपी लड़के की पहचान 18 साल के किरिल्ल बेरयोजिन के रूप में हुई है। बिल्ली के साथ किए गए इस अत्याचार की क्लिप पहले बेरयोजिन ने अपने सोशल मीडिया अकाउंट से पोस्ट की थी, जिसके बाद में हटा लिया गया।

बिल्ली को गर्म ओवन में डालता हुआ लड़का। (फोटोः यूट्यूब)

साइबेरिया के क्रासनोयार्स्क में पार्टी के दौरान लड़कों ने भीषण गर्म ओवन के अंदर जिंदा बिल्ली के बच्चे को डाल दिया। लड़का जब बिल्ली को ओवन के भीतर डाल रहा था, तब उसके साथ उसकी हरकत पर हंस रहे थे। इस दौरान उन्हीं में से एक लड़का घटना का वीडियो बनाने लगा, जबकि एक अन्य कह रहा था, “चलो एक बार फिर से उसे ओवन में डालो।” घटना से जुड़ी फुजेट जब सोशल मीडिया पर आई तो लोगों ने बिल्ली पर हुए अत्याचार पर खेद जताया और लड़कों की इस हरकत पर आपत्ति जताई। घटना से जुड़ी फुटेज में काले रंग की बिल्ली नजर आ रही थी। अचानक उसे एक लड़का पकड़ता है और 375 डिग्री सेंटीग्रेट तापमान वाले ओवन में डालने लगा था। आरोपी लड़के की पहचान 18 साल के किरिल्ल बेरयोजिन के रूप में हुई है। बिल्ली के साथ किए गए इस अत्याचार की क्लिप पहले बेरयोजिन ने अपने सोशल मीडिया अकाउंट से पोस्ट की थी, जिसके बाद में हटा लिया गया। फिलहाल बिल्ली की स्थिति के बारे में कुछ भी पता नहीं लग सका है।

बेरयोजिन क्रेसनोयार्स्क कॉलेज ऑफ रेडियो इलेक्ट्रॉनिक्स एंड इन्फॉर्मेशन टेक्नोलॉजी में पढ़ता है। वह इससे पहले उसी बिल्ली के साथ इंटरनेट पर फोटो पोस्ट कर चुका था। रूसी जांच समिति के प्रवक्ता ने इस बाबत कहा कि घटना का वीडियो इंटरनेट पर नवयुवकों ने पोस्ट किया था। यह घटना एक हाउस पार्टी के दौरान की थी। फिलहाल घटनास्थल की जांच-पड़ताल की जा रही है, जिसके आधार पर ही फैसला लिया जाएगा।”

सोशल मीडिया पर एक शख्स ने बिल्ली के साथ हुए इस टॉर्चर पर लिखा, “ये लड़के वाकई में पागल हैं। ये इंसान तो बिल्कुल नहीं हो सकते।” वहीं, एक अन्य यूजर का कहना था, “वह बिल्ली को चोट पहुंचाने के दौरान मजे ले रहा था। आने वाले समय में मनोरंजन के रूप में ये चीजें इंसानों के साथ देखने को मिल सकती हैं।” आपको बता दें कि पशुओं के साथ बर्बरता और टॉर्चर करने वालों के खिलाफ रूस में हाल ही में जेल की सजा बढ़ाई गई थी। किसी को भी पशुओं पर अत्याचार करने के लिए यहां तीन साल तक की जेल की सजा सुनाई जा सकती है। अगर टॉर्चर किसी समूह या गैंग ने किया हो, तब सजा पांच साल की हो जाती है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App