Student speaks abusive word for Delhi CM Arvind Kejriwal in a Live Debate on News Channel - लाइव डिबेट में इस बच्चे ने अरविंद केजरीवाल पर निकाली भड़ास, गंदे शब्द का भी इस्तेमाल - Jansatta
ताज़ा खबर
 

लाइव डिबेट में इस लड़के ने अरविंद केजरीवाल पर निकाली भड़ास, गंदे शब्द का भी इस्तेमाल

'लाभ के पद' मामले में दिल्ली सरकार के 20 विधायकों की सदस्यता रद्द करने की चुनाव आयोग की सिफारिश के बाद सियासी गलियारों में हलचल तेज हो गई है तो टीवी चैनलों पर भी सरकार के रवैये और कामकाज को लेकर बहसें तेज हो चली हैं।

अरविंद केजरीवाल की फाइल फोटो और डिबेट के वीडियो से लिया गया स्क्रीनशॉट।

‘लाभ के पद’ मामले में दिल्ली सरकार के 20 विधायकों की सदस्यता रद्द करने की चुनाव आयोग की सिफारिश के बाद सियासी गलियारों में हलचल तेज हो गई है तो टीवी चैनलों पर भी सरकार के रवैये और कामकाज को लेकर बहसें तेज हो चली हैं। शुक्रवार (20 जनवरी) को समाचार चैनल ‘आज तक’ पर आप के विधायकों को लेकर हुई एक गरमागरम लाइव डिबेट के दौरान ऑडियंस में बैठे एक लड़के ने दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल को लेकर कुछ ऐसा बोल दिया कि एंकर और पेनलिस्ट समेत सभी लोग असहज हो गए। शो की एंकर अंजना ओम कश्यप ने जैसे ही कहा कि एक छात्र आपको आपको काउंटर कर रहा है, इसके बाद लड़के ने माइक लेकर कहा- ”जब भी किसी पार्टी को उसकी सच्चाई दिखाई जाती है, तो आप चैनल को गलत क्यों दिखाते हैं, आप चैनल को क्यों गलत बोल रहे हैं, चैनल नहीं, पब्लिक आपको बोल रही है, चैनल नहीं बोल रहा है कुछ, अब पब्लिक आपकी सच्चाई जानती है कि आपने क्या किया, क्या नहीं किया है।”

इतना कहते-कहते लड़का भाषा की मर्यादा का ख्याल रखना भूल गया और केजरीवाल के लिए सीधे प्रसारण के दौरान अपशब्द का इस्तेमाल कर दिया। लड़के से तुरंत माइक छीन लिया गया। इसके बाद एंकर ने डिबेट में शामिल आम आदमी पार्टी के प्रवक्ता राघव चड्ढा से सवाल किया तो उन्होंने नाखुशी जाहिर की और कहा कि उनका चैनल यह सुनिश्चित करे कि अपशब्दों का इस्तेमाल नहीं किया जाएगा। इस पर एंकर अंजना ओम कश्यप ने भी चैनल की ओर से आप प्रवक्ता से माफी मांगी और कहा कि आज तक ने बड़ी मेहनत के बाद चैनल का नाम बनाया है, वह अपनी इमेज को ऐसे बर्बाद नहीं होने देगा।

बता दें कि शुक्रवार को चुनाव आयोग के द्वारा आप के 20 विधायकों की सदस्यता रद्द किए जाने की सिफारिश के बाद पार्टी ने तुरंत हाई कोर्ट की शरण ली, लेकिन वहां से भी फौरी तौर पर राहत नहीं मिली है। कोर्ट ने इस मामले में चुनाव आयोग से बात न करने पर आप को फटकार भी लगाई। कोर्ट सोमवार को इस मामले की सुनवाई करेगी। वहीं पार्टी की तरफ से कहा जा रहा कि अगर हाईकोर्ट से उसे राहत नहीं मिलती है तो वह सुप्रीम कोर्ट का दरवाजा खचखटाएगी। आप के 21 विधायकों को लाभ के पद पर रखने के खिलाफ याचिका दायर की गई थी। जिसमें एक विधायक जरनैल सिंह ने पहले ही इस्तीफा दे दिया था, इसलिए इस मामले में 20 विधायक बचे थे। आप सरकार पर आरोप है कि उसने संविधान को न मानते हुए अपने विधायकों को लाभ के पदों पर रखा।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App