scorecardresearch

Mainpuri By-Election: मैनपुरी में डिंपल यादव के लिए वोट मांग रहे Swami Prasad Maurya, ट्विटर पर सिर्फ इन तीन लोग करते हैं फॉलो

Swami Prasad Maurya : सपा नेता स्वामी प्रसाद मौर्य ने हाल में ही अखिलेश यादव (Akhilesh Yadav) से मुलाकात कर तस्वीर भी साझा की है।

Mainpuri By-Election: मैनपुरी में डिंपल यादव के लिए वोट मांग रहे Swami Prasad Maurya, ट्विटर पर सिर्फ इन तीन लोग करते हैं फॉलो
सपा नेता स्वामी प्रसाद मौर्य (फोटो सोर्स – सोशल मीडिया)

समाजवादी पार्टी (Samajwadi Party) उत्तर प्रदेश के मैनपुरी (Mainpuri) में होने उपचुनाव के लिए तैयारी करती नजर आ रही है। सपा ने अपनी ओर से सपा प्रमुख अखिलश यादव (Akhilesh Yadav) की पत्नी डिंपल यादव (Dimple Yadav) को उम्मीदवार बनाया है तो वहीं बीजेपी ने रघुराज सिंह शाक्य (Raghuraj Singh Shakya) को चुनावी मैदान में उतारा है। मैनपुरी सीट को सपा गढ़ माना जाता है, ऐसे में सपा के लिए यह सीट जीतना जरुरी है। सपा नेता स्वामी प्रसाद मौर्य (Swami Prasad Maurya) डिंपल यादव के लिए प्रचार कर रहे हैं।

डिंपल के लिए किया प्रचार

स्वामी प्रसाद मौर्य ने मैनपुरी में डिंपल यादव के समर्थन में एक सभा भी है। जिसकी कई तस्वीरें साझा कर उन्होंने लिखा कि,”लोकसभा उप चुनाव मैनपुरी में समाजवादी पार्टी के प्रत्याशी, श्रीमती डिम्पल यादव जी को भारी बहुमत से जिताने के लिये सम्मानित लोगों से अपील करते हुए।” सपा नेता द्वारा किये किये पोस्ट पर कुछ लोगों ने उन्होंने ट्रोल करते हुए लिखा कि उत्तर प्रदेश विधानसभा में खुद की सीट नहीं जीत पाए थे, अब दूसरों के लिए प्रचार कर रहे हैं।

सोशल मीडिया पर एक्टिव रहते हैं स्वामी प्रसाद मौर्य

स्वामी प्रसाद मौर्य सोशल मीडिया (Social Media) पर खूब एक्टिव नजर आते हैं। वह इसके जरिये ही बीजेपी पर खूब हमला बोलते हैं, इसके साथ ही वह फोटो वगैरह के माध्यम से भी अपने सभा और कार्यक्रम की जानकारी देते रहते है। सोशल मीडिया पर खूब एक्टिव रहने वाले स्वामी प्रसाद ट्विटर (Twitter) पर केवल 3 लोगों ने फॉलो करते हैं। जिसमें सपा प्रमुख अखिलेश यादव, समाजवादी पार्टी का आधिकारिक हैंडल और बीजेपी सांसद व उनकी बेटी संघमित्रा मौर्य हैं।

उत्तर प्रदेश विशानसभा चुनाव के पहले छोड़ दिया था बीजेपी का साथ

कभी मायावती (Mayawati) की पार्टी बसपा से मंत्री रहे स्वामी प्रसाद मौर्य ने 2016 में बहुजन समाज पार्टी से इस्तीफा दे दिया। इस्तीफा देने के बाद उन्होंने पार्टी पर पैसे लेकर टिकट बांटने का बड़ा आरोप लगाया था। जिसके बाद 2017 में भाजपा के साथ आकर उन्होंने चुनाव लड़ा और जीत के बाद सरकार में कैबिनेट मंत्री बने। 5 साल मंत्री बने रहने के बाद उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव से पहले उन्होंने बीजेपी पर कई तरह के आरोप लगाते हुए मंत्री पद से इस्तीफ़ा दे दिया था।

खुद सपा में लेकिन बीजेपी से सांसद है उनकी बेटी

सवामी प्रसाद मौर्य समाजवादी पार्टी में हैं जबकि उनकी बेटी संघमित्रा मौर्य (Sanghmitra Maurya) बदायूं सीट से बीजेपी की सांसद हैं। संघमित्रा ने मुलायम सिंह यादव (Mulayam Singh Yadav) के भतीजे धर्मेंद्र यादव (Dharmendra Yadav) को हराकर जीत हासिल की थी। बता दें कि संघमित्रा मौर्य ने संसद में जातिगत जनगणना का समर्थन किया था, उस बयान के बाद वह खूब चर्चा में आ गई थी।

पढें ट्रेंडिंग (Trending News) खबरें, ताजा हिंदी समाचार (Latest Hindi News)के लिए डाउनलोड करें Hindi News App.

First published on: 18-11-2022 at 12:09:47 pm
अपडेट