scorecardresearch

शिवपाल यादव ने कहा- अखिलेश यादव अगर चाहते तो आजम खां जेल से बाहर होते, यूजर्स ने पूछा – सपा प्रमुख जज हैं क्या?

मुलायम सिंह यादव (Mulayam Singh Yadav) के भाई के बयान पर सोशल मीडिया यूजर्स चुटकी ले रहे हैं।

Shivpal Yadav Photo| Shivpal Photo| Shivpal Akhilesh Photo|
प्रगतिशील समाजवादी पार्टी के अध्यक्ष शिवपाल यादव (File Photo)

प्रगतिशील समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष शिवपाल यादव (Shivpal Yadav) जेल में बंद समाजवादी पार्टी के वरिष्ठ नेता आजम खां (Azam Khan) से मुलाकात करने पहुंचे थे। इस मुलाकात के बाद शिवपाल ने कहा कि सपा प्रमुख अखिलेश यादव (Akhilesh Yadav) चाहते तो आजम खां जेल से बाहर होते। शिवपाल के बयान पर सोशल मीडिया यूजर्स तमाम प्रकार के सवाल पूछने लगे।

शिवपाल यादव ने कही यह बात : अखिलेश यादव पर निशाना साधने बाली शिवपाल ने इस बार बड़े भाई मुलायम सिंह यादव पर भी तंज कसा। उन्होंने कहा कि अगर नेताजी और अखिलेश चाहते तो आजम खान जेल से बाहर होते। मुलायम ने भी लोकसभा में इस मामले को नहीं उठाया, वे चाहते तो धरना दे सकते थे। अखिलेश यादव के साथ चल रही राजनीतिक खींचतान के बीच शिवपाल यादव ने सीतापुर जेल में आजम खान से डेढ़ घंटे की मुलाकात की।

लोगों की प्रतिक्रियाएं : इमरान मलिक नाम के ट्विटर हैंडल से लिखा गया , ‘ अखिलेश भैया की जमीन खिसकने लगी है।’ प्रदीप पांडे नाम के एक यूजर सवाल करते हैं कि अखिलेश यादव सरकार चला रहे हैं या फिर कोर्ट के जज हैं? अमरीश गुप्ता पूछते हैं कि योगी आदित्यनाथ मुख्यमंत्री पद से हटकर अखिलेश यादव को मुख्यमंत्री बना दिए हैं क्या, दूसरी बात अखिलेश आजम खां के वकील नहीं हैं।

जेहन चौधरी लिखते हैं कि अखिलेश यादव के चाहने से कैसे बाहर होते? शिवपाल यादव को यह भी बताना चाहिए। गौरव नाम के एक यूजर ने कमेंट किया, ‘ शिवपाल जी आप भी विपक्ष में बैठे हैं, आप ही छुड़ा ही लीजिए।’ सूरज त्रिपाठी नाम के एक यूजर कमेंट करते हैं – अखिलेश यादव सुप्रीम कोर्ट के जज हैं, जो चाहते तो छूट जाते। कुछ बोलने से पहले सोचा करिए चाचा जी।

यूपी चुनाव के नतीजे के बाद से ही अखिलेश यादव से नाराज चल रहे हैं शिवपाल : उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव के पहले समाजवादी पार्टी और अखिलेश यादव के करीब आए शिवपाल एक बार फिर से नाराज दिखाई दे रहे हैं। शिवपाल का मानना है कि समाजवादी पार्टी की ओर से उनकी उपेक्षा की गई है। पहले तो शिवपाल को सपा के स्टार प्रचारकों की सूची में नहीं शामिल किया गया। यूपी चुनाव के नतीजों के बाद सपा की विधायक दल की बैठक में भी उन्हें नहीं बुलाया गया था।

पढें ट्रेंडिंग (Trending News) खबरें, ताजा हिंदी समाचार (Latest Hindi News)के लिए डाउनलोड करें Hindi News App.

अपडेट