ताज़ा खबर
 

एयर इंडिया कर्मचारी को पीटने वाले शिव सेना सांसद के यू-टर्न पर भड़के यूजर्स, कहा- सजा भुगतो, प्रायश्चित करो

लोक सभा में अपने बयान के बाद शिव सेना सांसद रवींद्र गायकवाड़ ट्विटर पर टॉप ट्रेंड्स में शामिल हैं।

लोक सभा में बयान के बाद ट्विटर पर लोग रवींद्र गायकवाड़ की आलोचना कर रहे हैं।

एयर इंडिया के कर्मचारी को पीटने के आरोपी शिव सेना सांसद रवींद्र गायकवाड़ की ट्विटर पर जमकर खिंचाई हो रही है। आरोप है कि गायकवाड़ ने 23 मार्च को एयर इंडिया के एक अधिकारी की चप्पल से पिटाई कर दी थी। महाराष्ट्र के उस्मानाबाद से लोक सभा सदस्य गायकवाड़ पर एयर इंडिया के 60 वर्षीय ड्यूटी प्रबंधक से दुर्व्यवहार करने और उसे कई बार चप्पल से पीटने का आरोप है। उन्‍होंने खुद कैमरे पर यह बात कबूली भी थी कि एयर इंडिया के कर्मचारी को उन्‍होंने ’25 बार चप्‍पल से मारा।’ एयर इंडिया ने इस दुव्‍र्यवहार के बाद गायकवाड़ की विमान यात्रा पर रोक लगा दी। जिसके बाद भारत की सभी घरेलू एयरलाइंस ने गायकवाड़ को ब्‍लैक लिस्‍ट कर दिया था। गुरुवार (6 अप्रैल) को गायकवाड़ ने लोक सभा में इस मुद्दे पर अपनी बात रखी। जिसमें उन्‍होंने कहा, ”ए‍यर इंडिया जो कह रहा है कि सीट के लिए मैंने झगड़ा किया, मैंने मारा, ये गलत बात है।” गायकवाड़ ने कहा, ”घंटे भर बाद एक अधिकारी आया जिसने चिल्‍लाते हुए मुझसे सवाल किए। मैंने शांति से उससे पूछा कि आप क्‍या हो, तो उसने कहा कि मैं एयर इंडिया का बाप हूं।”

शिव सेना सांसद ने लोक सभा में पिटाई की बात नहीं कही। उन्‍होंने आगे कहा, ”जब मैंने अधिकारी को बताया कि मैं एमपी हूं तो उसने चिल्‍लाकर कहा कि एमपी हुआ तो क्‍या हुआ, तू नरेंद्र मोदी है क्‍या? यह बोलकर उन्‍होंने मेरी कॉलर पकड़ कर ढकेलने की कोशिश की। इस अपमानजनक व्‍यवहार से मुझे गुस्‍सा आया और मैंने उसे ढकेल दिया। देश के सदन के सदस्‍य के साथ बदसलूकी की, अभद्र भाषा का इस्‍तेमाल किया गया।”

लोक सभा में अपने बयान के बाद शिव सेना सांसद रवींद्र गायकवाड़ ट्विटर पर टॉप ट्रेंड्स में शामिल हैं। अभिजीत ने कहा, ”आज सांसद में गायकवाड़ का पलटी मार बयान और सांसदों का साथ देना, पता चलता है बाला साहेब से पार्टी का रास्ता अलग हो गया।” हरनाम सिंह ने लिखा, ”सही कह रहे हो यार गायकवाड़ जी अपराध तुहारा नहीं भोली भाली जनता का है जिसने तुम जैसा नुमाइन्दा चुना।” राधा वशिष्‍ठ ने कहा, ”सांसद रवींद्र गायकवाड़ की जगह,आम आदमी होता तो वह सरकारी कर्मचारी को चप्पल से मारकर बच सकता था, इसे सजा नहीं मिली तो सरकार से विश्वास उठ जाएगा।”