scorecardresearch

देखिए, मजदूर का फोन छीन भागा लुटेरा तो ASI ने भरी रफ्तार, दौड़ाकर पकड़ा

सोशल मीडिया पर वीडियो वायरल है। लोगों ने पुलिस की दिल खोलकर सराहना की तो कुछ लोगों ने वीडियो बनाने पर सवाल खड़े कर दिए। कुछ लोगों ने आम जनता को फटकार लगाई।

criminal mind
सांकेतिक फोटो।

आगे चोर भाग रहा है और पीछे पुलिस का एक एएसआई। आखिर में चोर पस्त होता है और पुलिस उसे धर दबोचती है। ये कोई कहानी नहीं बल्कि सच्ची घटना है। बेंगलुरु में एक झपटमार गरीब मजदूर का मोबाइल छीनकर भाग रहा था। एएसआई ने देखा और उसके पीछे भागा। फिर पकड़ लिया। सोशल मीडिया पर वीडियो वायरल है। लोगों ने पुलिस की दिल खोलकर सराहना की तो कुछ लोगों ने वीडियो बनाने पर सवाल खड़े कर दिए। कुछ लोगों ने आम जनता को फटकार लगाई।

सतपाल सिंह ने लिखा हर मोड़ पे शरीर की स्वस्थता औऱ मजबूती काम आती है। चाहे खुद के लिए हो, अपनों के लिए हो दूसरो के लिए हो, या देश के लिए हो। राजीव ने जनता को नसीहत दे कहा कि पब्लिक के लिए बेहद शर्म की बात है कि वो चोर को भागते हुए सिर्फ देख रहे थे। जैसे अक्सर फिल्मों में देखते हैं।

महेंद साहू ने लिखा- ऐसे खाकी को सलाम। सर जी की फिटनेस को भी सलाम। नहीं तो पुलिस तो अक्सर वारदात के बाद ही आती है। कानून के हाथ लंबे हैं पुनीत गुप्ता ने लिखा- वर्दी पर आम जनता के भरोसे को और सुदृढ़ करने का धन्यवाद।

प्रकाश माहेश्वरी ने लिखा- यहां ASI वरुण प्रशंसा के पात्र हैं तो तमाशबीन बनी जनता धिक्कार के योग्य। लोग देख रहे हैं। पुलिस वाला पीछा कर रहा है तो आगे भाग रहा आदमी अपराधी ही होगा। मगर सब तमाशबीन बने रहे। क्या इन लोगों का कर्तव्य नहीं कि घेराबंदी कर ASI को सहयोग देते? एक ने लिखा- पुलिस वाले हैं या उसेन बोल्ट? बहादुरी और कर्तव्यनिष्ठा के लिए वरुण जी को साधुवाद।

दिनेश बाबू ने पुलिस पर सवालिया निशान लगाते हुए कहा कि चश्मदीद लोगों से बात की जाएगी तो कुछ न कुछ ट्विस्ट ज़रूर मिल जाएगा। एक ने लिखा- इतना प्री प्लान तो साउथ की मूवी में भी नहीं होता…कैमरा वालो को इस बार उसेन बोल्ट से दौड़ करनी चाहिए। 4800 मीटर की दौड़ का परिणाम है।

एक ने लिखा- वीडियो बनाने वाले को अपनी सेहत पे ज़्यादा ध्यान देना चाहिए, बेचारे की सांस फूल गई। कवरेज करने वालो को 11 तोपो की सलामी। एक और ने तंज कसा- वहां तक तो ठीक है। लेकिन कैमरा मेन पीछे पीछे दौड़ रहा है। कोई हेल्प नहीं कर रहा है। इतना भीड़ में कोई हेल्प नहीं कर रहा है। वीडियो बना रहा हैँ। प्रशांत ने तंज कसा कि कैमरामैन को भी दाद देनी पड़ेगी।

अतुल पांडेय ने यूपी पुलिस पर सवाल उठाते हुए कहा- यूपी पुलिस से जानना चाहूंगा कि उनके सिपाही भी इतना भागते या 2,4 कदम दौड़ाने के बाद चोर के चलने फिरने की क्षमता ही ख़त्म कर देते और वो पुलिस वालों के कन्धों पर जेल नहीं अस्पताल पहुंचता।

पढें ट्रेंडिंग (Trending News) खबरें, ताजा हिंदी समाचार (Latest Hindi News)के लिए डाउनलोड करें Hindi News App.