ताज़ा खबर
 

खनन मामले में नाम आने के बाद अखिलेश यादव ने शेयर की यह फैमिली फोटो

सीबीआई के मुताबिक यूपी में 22 अवैध खदानों में से 14 को अखिलेश यादव ने मंजूरी दी थी। सीबीआई ने बताया कि कुछ वक्त के लिए खनन विभाग अखिलेश के पास था और उनके कार्यालय ने एक ही दिन में 13 खनन पट्टों को मंजूरी दे दी थी।

अखिलेश यादव ने मंगलवार को यह तस्वीर ट्वीट की। (Image Source: Twitter/@yadavakhilesh)

उत्तर प्रदेश में खनन घोटाले में नाम आने के बाद पूर्व मुख्यमंत्री और समाजवादी पार्टी अध्यक्ष अखिलेश यादव ने मंगलवार (8 जनवरी) को एक तस्वीर ट्वीट की और शायराना अंदाज में उस पर एक कैप्शन लिखा। अखिलेश यादव का कैप्शन भारतीय जनता पार्टी के खिलाफ उनका तंज माना जा रहा है। अखिलेश यादव ने कैप्शन में लिखा, ”दुनिया जानती है इस खबर में हुआ है मेरा जिक्र क्यों, बदनीयत है जिसकी बुनियाद उस खबर से फिक्र क्यों।” बता दें कि केंद्रीय जांच एजेंसी सीबीआई यूपी में खनन घोटाले की जांच कर रही है। सीबीआई ने दावा किया है कि खनन मामले में इलाहाबाद कोर्ट के आदेश को दरकिनार करते हुए 22 पट्टों को गैरकानूनी तरीके से दिया गया था। सीबीआई के मुताबिक यूपी में 22 अवैध खदानों में से 14 को अखिलेश यादव ने मंजूरी दी थी। सीबीआई ने बताया कि कुछ वक्त के लिए खनन विभाग अखिलेश के पास था और उनके कार्यालय ने एक ही दिन में 13 खनन पट्टों को मंजूरी दे दी थी। सीबीआई ने दावा किया कि खनन घोटाले में अखिलेश यादव के शामिल होने के साक्ष्य उसके हाथ लगे हैं।

सूत्रों के मुताबिक अखिलेश यादव से पूछताछ के लिए सीबीआई ने सवालों की लिस्ट भी तैयार कर ली है। सीबीआई के मुताबिक 17 फरवरी 2013 में अखिलेश यादव ने ई-टेंडरिंग प्रक्रिया का उल्लंघन करते हुए 13 खनन पट्टों को मंजूरी दी थी। सीबीआई के मुताबिक 2012 में मुख्यमंत्री कार्यालय से हरी झंडी मिलने के बाद हमीरपुर की डीएम बी चंद्रकला ने सभी प्रावधानों का उल्लंघन करते हुए पट्टों को मंजूरी दी थी।

वहीं, खनन मामले में अखिलेश यादव का नाम आने के बाद बहुजन समाज पार्टी और कांग्रेस ने उनका समर्थन किया है। सपा नेता रामगोपाल यादव ने कहा, ”केंद्र सरकार के इशारे पर सीबीआई की दुरुपयोग की मंशा है चुनाव से ठीक पहले लेकिन ये भूल जाते हैं कि पासा इन पर बिल्कुल उल्टा पड़ेगा.. और कहीं उत्तर प्रदेश में पैर रखने के लिए बीजेपी को जगह नहीं मिलेगी.. और समाजवादी पार्टी और हमारे सहयोगी दल सड़कों पर उतरेंगे तो इनकी सरकार को काम करना मुश्किल हो जाएगा।” कांग्रेस नेता गुलाम नबी आजाद ने कहा, ”राजीव गांधी के वक्त में सभी दल इकट्ठे हो गए थे.. लेकिन राजीव गांधी ने किसी पर इनकम टैक्स का या सीबीआई का रॉब नहीं जमाया कि भई अगर तुम इकट्ठे हो गए हो जाओगे तो हम अंदर डालेंगे।

 

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App