ताज़ा खबर
 

Rukhmabai: बाल विवाह की कुरीति के खिलाफ लड़ी थीं जंग, जानिए कौन थीं रुखमाबाई

Rukhmabai के पिता की मृत्यु के बाद माता ने सारी संपत्ति अपनी बेटी के नाम कर दी थी और 11 साल की उम्र में उनका विवाह हो गया था।

Author Updated: November 22, 2017 7:57 PM
Rukhmabai History: रुखमाबाई एक डॉक्टर के साथ एक समाजसेवक भी थीं।

Rukhmabai का जन्म 22 नवंबर 1864 में हुआ। अपने जीवन में उन्होंने कड़े संघर्ष के बाद सफलता हासिल की थी। मुंबई के बढ़ई जाति से संबंध रखने वाले जनार्धन पांडूरंग और जयंतीबाई के यहां उनका जन्म हुआ। Rukhmabai ने मेडिकल की पढ़ाई तब की जब भारत पर ब्रिटिशों का राज था और महिलाओं को उनके मूल अधिकारों तक के लिए वंचित रखा जाता था। इंग्लैंड से पढ़ाई करने के बाद वो भारत की पहली महिला डॉक्टर बनीं। इसके साथ ही उन्होनें महिलाओं के मूल अधिकारों के लिए कार्य किए, अनेकों अखबारों से उन्होनें लोगों के दिल में अपने लिए जगह बनाई और लोगों के द्वारा दिए गए फंड से ही लंडन स्कूल ऑफ मेडिसिन से पढ़ाई पूरी की थी। Rukhmabai ने कई समाज कार्यों में अपनी भूमिका निभाई और बाल विवाह और पर्दा प्रथा जैसी कुरीतियों के खिलाफ बेबाक बोल लिखे। Rukhmabai एक डॉक्टर के साथ एक समाजसेवक भी थीं। रुखमाबाई ने शिक्षा और अपनी निडरता से अपने साथ आगे आने वाली महिलाओं की पीढ़ी के लिए शिक्षा के रास्ते तो खोले और उन्हें बाल विवाह और पर्दा प्रथा जैसी कुरितियों से मुक्त करवाया।

Rukhmabai Raut: गूगल ने डूडल बनाकर किया भारत की पहली महिला डॉक्टर को याद

Rukhmabai का विवाह 11 साल की उम्र में 19 साल के दादाजी भिकाजी से उनकी बिना मर्जी के विवाह करवा दिया गया था लेकिन वो 12 साल की उम्र में अपने पति का घर छोड़ आई थीं। उनकी विधवा माता ने उनका साथ दिया और Rukhmabai ने उनके साथ रहना शुरु कर दिया। माता जयंतीबाई ने असिस्टेंट सर्जन सखाराम अर्जुन के साथ विवाह किया, जिन्होनें Rukhmabai की पढ़ाई को जारी रखा और हर मुद्दे पर उनका साथ दिया। Rukhmabai के पति दादाजी भिकाजी ने बॉम्बे हाई कोर्ट में पत्नी पर हक के लिए केस कर दिया। जिसमें कोर्ट ने Rukhmabai को पति के साथ रहने का फैसला सुनाया और कहा कि दादाजी भिकाजी के साथ रहना होगा अन्यथा सजा के तौर पर जेल जाना पड़ेगा। जिसपर Rukhmabai ने कहा कि वो इस तरह के रिश्ते में रहने से बेहतर जेल जाना पसंद करेंगी। ये केस ने इंग्लैंड में भी चर्चित हो गया और उसके बाद महारानी विक्टोरिया और ब्रिटिश सरकार ने शारीरिक संबंध बनाने के लिए रजामंदी की उम्र से जुड़ा कानून 1891 में पारित किया।

Rukhmabai के संघर्ष की वजह से ही बना बाल विवाह के खिलाफ भारत में पहला कानून

Rukhmabai अपने पेन नेम ‘ए हिंदू लेडी’ से कई जगह लेख लिखे जिसमें उनके नारीवादी विचार झलकते थे। इसी तरह के एक लेख में उन्होनें अपने डॉक्टर बनने की इच्छा जाहिर की और उनके शुभचिंतकों ने फंड इकठ्ठे करके उन्हें पढ़ाई के लिए 1889 में इंग्लैंड भेजा। वहां से 1894 में एक प्रोफेशनल फिजिशियन बनकर लौंटने के बाद उन्होनें सूरत में एक अस्पताल में सेवाएं देनी शुरु कर दी थी। 1904 में दादाजी भिकाजी की मृत्यु के बाद हिंदू धर्म के अनुसार विधवा रुप में रहने लगी और 1918 में उन्होनें राजकोट के एक महिला अस्पताल में काम करना शुरु किया। वहां करीब 35 साल काम करने के बाद वो बंबई 1930 के आस-पास लौटीं और महिलाओं के लिए बनी पर्दा प्रथा और अनेकों कुरीतियों के लिए काम करना शुरु किया और अपने बेबाक शब्दों से उन्होनें लोगों को जागरुक करने का प्रयास किया और एक लंबी लड़ाई के बाद 1955 में हिंदू मैरिज एक्ट आया जिसमें पति-पत्नी के रिश्ते के लिए दोनों पक्षों की मंजूरी होना आवश्यक किया गया। रुखमाबाई ने शिक्षा और अपनी निडरता से अपने साथ आगे आने वाली महिलाओं की पीढ़ी के लिए शिक्षा के रास्ते तो खोले और उन्हें बाल विवाह और पर्दा प्रथा जैसी कुरितियों से मुक्त करवाया।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

Next Stories
1 वीडियो: बच्ची को गोद में लिए घूम रहे पुलिसवाले ने गन से मार गिराए दो बदमाश
2 Rukhmabai: भारत की पहली महिला डॉक्टर के 153वें जन्मदिन पर Google ने Doodle बनाकर किया याद
3 कांग्रेस के हमले पर परेश रावल बोले- बारवाला से बेहतर चायवाला, अब ट्वीट डिलीट करके मांगी माफी