ताज़ा खबर
 

राम मंदिर पर बयान देकर ट्रोल हुए मोहन भागवत, लोग बोले- मंदिर नहीं बनेगा तो बाबा बलात्कार कैसे कर पाएंगे?

बहुत से यूजर्स ने बागवत के बयान को कठुआ गैंगरेप से जोड़ते हुए सोशल मीडिया पर अपनी प्रतिक्रिया दी है। कुछ यूजर्स ने लिखा कि मंदिर में एक 8 साल की मासूम बच्ची के बलात्कार से तुम्हारी संस्कृति की जड़े जुड़ रही है।

राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (आरएसएस) के प्रमुख मोहन भागवत ( FILE PHOTO)

राष्ट्रीय स्वयंसेव संघ (आरएसएस) प्रमुख मोहन भागवत ने राम मंदिर को लेकर बड़ा बयान दिया है। उन्होंने रविवार को कहा कि हम अयोध्या में ही राम मंदिर बनाएंगे। महाराष्ट्र के पालघर जिले के दहानू में विराट हिंदू सम्मेलन को संबोधित करते हुए भागवत ने कहा कि राम मंदिर ‘फिर से नहीं बनाया गया’ तो ‘हमारी संस्कृति की जड़ें’ कट जाएंगी। आरएसएस प्रमुख ने कहा, ‘भारत में मुस्लिम समुदाय ने राम मंदिर नहीं तोड़ा। भारतीय नागरिक ऐसी चीजें नहीं कर सकते। भारतीयों का मनोबल तोड़ने के लिए विदेशी ताकतों ने मंदिरों को तोड़ा।’ उन्होंने कहा, ‘लेकिन आज हम आजाद हैं। हमें उसे फिर से बनाने का अधिकार है जिसे नष्ट किया गया था, क्योंकि वे सिर्फ मंदिर नहीं थे बल्कि हमारी पहचान के प्रतीक थे।’ भागवत ने कहा कि इसमें कोई शक नहीं कि मंदिर वहीं बनाया जाएगा, जहां वह पहले था। आरएसएस प्रमुख ने विपक्षी पार्टियों पर निशाना साधते हुए उन्हें देश के कई हिस्सों में हुई हालिया जातिगत हिंसा के लिए जिम्मेदार ठहराया।

अयोध्या में राम मंदिर पर मोहन भागवत के इस बयान के बाद सोशल मीडिया में लोगों ने उन्हें ट्रोल करना शुरू कर दिया। बहुत से यूजर्स ने बागवत के बयान को कठुआ गैंगरेप से जोड़ते हुए सोशल मीडिया पर अपनी प्रतिक्रिया दी है। कुछ यूजर्स ने लिखा कि मंदिर में एक 8 साल की मासूम बच्ची के बलात्कार से तुम्हारी संस्कृति की जड़े जुड़ रही है। वहीं कुछ अन्य यूजर्स ने लिखा- बाबाओं के लिए बलात्कार करने की सबसे महफूज जगह। मंदिर नहीं बनेगा तो बाबा बलात्कार कैसे कर पाएंगे?

बता दें कि कठुआ गैंगरेप से पूरा देश आक्रोशित है। मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक 8 साल की बच्ची को अगवा कर बेहोशी की हालत में एक मंदिर के अंदर छुपा कर रखा गय़ा और उसके साथ गैंगरेप किया गया। हफ्ते भर तक बच्ची के साथ हैवानियत के बाद उसको मारकर झाड़ियों में फेंक दिया गया था।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App