ताज़ा खबर
 

तेजस्वी का तंज- नोटबंदी ने आतंकवाद की ऐसी कमर तोड़ी कि 30 दिन में हो गए 45 सैनिक शहीद

बिहार के दो शहीदों की अंत्येष्टि में बिहार सरकार के किसी भी मंत्री के शामिल नहीं होने और उन्हें श्रद्धांजलि नहीं देने पर भी तेजस्वी ने नीतीश सरकार की आलोचना की है।
लालू यादव के बेटे तेजस्वी यादव

बिहार के पूर्व उप मुख्यमंत्री और नेता विपक्ष तेजस्वी यादव ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर तंज कसा है। उन्होंने पाकिस्तान द्वारा सीजफायर उल्लंघन में एक महीने के अंदर 45 भारतीय सैनिकों के शहीद होने पर रोष जताया है और मोदी सरकार के नोटबंदी के फैसले पर तंज कसा है, जिसे लागू करते समय कहा गया था कि इससे आतंकवादियों की कमर टूट जाएगी। तेजस्वी ने संघ प्रमुख मोहन भागवत द्वारा सेना और स्वयंसेवकों की तुलना करने और सीमा पर स्वयंसेवकों के भेजने की बात पर बढ़े विवाद के बाद यह बात कही। उन्होंने सोशल मीडिया पर लिखा है, “मोदी जी की नोटबंदी ने आतंकवाद की ऐसी कमर तोड़ी कि विगत एक माह में हमारे 45 बहादुर सैनिक शहीद हो चुके हैं। ऊपर से मोहन भागवत का सेना ज्ञान।”

बता दें कि सोमवार को भी श्रीनगर के करण नगर में सीआरपीएफ की 23वीं बटालियन पर आतंकियों ने हमला बोल दिया था। इसमें आतंकियों को रोकते हुए सीआरपीएफ के जवान और भोजपुर के पीरो निवासी मोहम्मद मोजाहिद घायल हो गए थे। बाद में उनकी मौत हो गई थी। 2 फरवरी को भी आतंकी हमले में बिहार के खगड़िया जिले के निवासी किशोर कुमार मुन्ना शहीद हो गए थे। इन शहीदों की अंत्येष्टि में बिहार सरकार के किसी भी मंत्री के शामिल नहीं होने और उन्हें श्रद्धांजलि नहीं देने पर भी तेजस्वी ने नीतीश सरकार की आलोचना की है।

अपने दूसरे ट्वीट में तेजस्वी ने लिखा है, “बिहार में दो जांबाज सैनिक वीरगति को प्राप्त हुए, लेकिन नीतीश सरकार का एक भी मंत्री वीर जवानों को श्र्द्धांजलि देने नहीं आया और अंतिम संस्कार में शामिल नहीं हुआ। नीतीश जी संघ के वकील मत बनिए। ये राजनीतिक आरोप नहीं, शहीदों के सम्मान की बात है।” तेजस्वी के वार पर जदयू प्रवक्ता नीरज कुमार ने पलटवार करते हुए कहा है कि बिहार सरकार ने दोनों शहीदों को राजकीय सम्मान दिया है। इसके साथ ही उन्होंने निशाना साधा कि तेजस्वी जेल में बंद अपने पिता लालू यादव की चिंता करें। उन्होंने सवालिया लहजे में पूछा कि आखिर क्यों उनके परिवार ने उन्हें जेल में छोड़ दिया है?

तेजस्वी के ट्वीट पर कई लोगों ने प्रतिक्रिया दी है। एक यूजर ने लिखा है, “सर्जिकल स्ट्राइक का श्रेय लेने में तो आगे थे हमारे प्रधान सेवक साहब। रोज मारे जा रहे सैनिकों का श्रेय कौन लेगा?” दूसरे यूजर ने लिखा है, “अर्रे भी स्मृति ईरानी जी को बोलो pm को साड़ी ओर चूड़ी भेजें अब वो तो टेक्सटाइल मिनिस्टर भी है।”