ताज़ा खबर
 

लालू यादव का तंज- रौंदोगे तो हिमाला बनूँगा, विष दोगे तो शिवाला बनूँगा, ट्रोलर्स ने यूं लिए मजे

बिहार के पूर्व मुख्यमंत्री और राजद अध्यक्ष लालू प्रसाद यादव इन दिनों चारा घोटाले के एक मामले में सजायाफ्ता होकर रांची की जेल में सजा काट रहे हैं। इस बीच उन्होंने विरोधियों पर तंज कसा है।

आरजेडी चीफ लालू प्रसाद यादव (PTI फोटो)

बिहार के पूर्व मुख्यमंत्री और राजद अध्यक्ष लालू प्रसाद यादव इन दिनों चारा घोटाले के एक मामले में सजायाफ्ता होकर रांची की जेल में सजा काट रहे हैं। इस बीच उन्होंने विरोधियों पर तंज कसा है। उन्होंने लिखा है कि विरोधी चाहे लाख बाधा और मुश्किल खड़ी करें, वो उन मुश्किलों से निकलकर और बड़े होंगे। उन्होंने सोशल मीडिया अकाउंट ट्विटर पर लिखा है, “रौंदोगे तो हिमाला बनूँगा
विष दोगे तो शिवाला बनूँगा
उधेड़ोगे तो दूशाला बनूँगा
जलाओगे तो उजाला बनूँगा
दफ़नाओगे तो निवाला बनूँगा
लालू लाल है बिहार का
जन्म-जन्मांतर तक
इस मिट्टी का रखवाला बनूँगा।” लालू के इस ट्वीट पर कई लोगों ने प्रतिक्रिया दी है। ट्रोलर्स ने ट्रोल करते हुए मजे लिए हैं।

एक यूजर ने लालू के स्टाइल में ही, उनकी कविता पर पैरोडी बनाते हुए उन्हें ट्रोल किया है। उसने लिखा है, “रौंदोगे तो भैंस बनूँगा, विष दोगे तो संपोले बनूँगा, उधेड़ोगे तो सुअर बनूँगा, जलाओगे तो कुत्ता बनूँगा, दफ़नाओगे तो नेवला बनूँगा, लालू लाल है बिहार का, जन्म-जन्मांतर तक
इस मिट्टी को खानेवाला बनूँगा।” एक अन्य यूजर ने लालू यादव का समर्थन करते हुए लिखा है, “लालू जी से चिढ़ का कारण उनका बिहार का जनाधार है। इसी कारण कम जनाधार वाले नेता लालूजी से चिढते हैं। लालू जी का सामाजिक न्याय के लिए काम अद्वितीय है।”

एक अन्य यूजर ने लिखा है, “लालू यादव ने अपने शासन-काल मे बिहार का सम्पूर्ण ग्रास कर चुके थे। स्वयं को बिहार का लाल और शुभ-चिन्तक बता रहे हैं। निर्लजता की भी हद होती है।” लालू स्टाइल में ही एक अन्य यूजर ने लिखा है, “सजा दोगे तो बेचारा बनूँगा,
मुस्लिमों के लिए मौलाना बनूँगा , मेरे घर के लिए है लालटेन, पर बिहार में अँधेरा करूँगा, बहुत अल्पहारी हूँ मैं, सिर्फ चारे से ही पेट भरूंगा
रेलवे की ऐसी तैसी, उसका होटल तो अपने नाम करूँगा.” इसी तरह कई लोगों ने अपनी-अपनी प्रतिक्रिया दी है।