ताज़ा खबर
 

कमल हासन का बयान: खुद को हिंदू आतंकी कहने से इनकार नहीं कर सकते दक्षिणपंथी

कमल हासन ने कहा कि पहले दक्षिणपंथी हिंदू लोग हिंसा में शामिल नहीं होते थे लेकिन ये पुरानी रणनीति हार गई और अब वे जो करते हैं, उसमें बल प्रयोग होता है।

फिल्मों से राजनीति में आने का संकेत दे चुके साउथ की फिल्मों के सुपरस्टार कमल हासन ने कहा है कि दक्षिणपंथी लोग किसी भी हाल में हिंदू आतंकवाद से इनकार नहीं कर सकते हैं। दक्षिणपंथी राजनीति करने वालों पर सीधा निशाना साधते हुए कमल हासन ने कहा कि पहले दक्षिणपंथी हिंदू लोग हिंसा में शामिल नहीं होते थे, वे अपने विरोधियों का तर्कों के आधार पर विरोध करते हुए शास्त्रार्थ करते थे। लेकिन, ये पुरानी रणनीति हार गई और अब वे जो करते हैं, उसमें बल प्रयोग होता है। हासन ने कहा, ‘अब उन्होंने हिंसा फैलाना शुरू कर दिया है।’ कमल हासन ने कहा, ‘हिंदू आतंकवाद की बात कहने वाले लोगों को दक्षिणपंथी चैंलेज नहीं कर सकते हैं, क्योंकि आतंक हिंदू कैंप में भी पहुंच गया है। इस तरह की आतंकी गतिविधियां उन्हें किसी तरह की मदद नहीं करने वाली। कमल हसन ने ये बातें एक तमिल मैगजीन Ananda Vikatan में अपने लेख में लिखी हैं।

कमल हसन के इस बयान पर महाभारत छिड़ती नजर आ रही है। जहां कांग्रेस इस सुपरस्टार के बयान का समर्थन करती दिख रही है वहीं बीजेपी की तरफ से जबरदस्त पलटवार किया गया है। कमल के बयान पर बीजेपी सांसद सुब्रह्मण्यम स्वामी ने कहा, ‘कमल हासन ईमानदार व्यक्ति नहीं हैं और न ही निष्पक्ष हैं। जयललिता के खिलाफ जब हम भ्रष्टाचार के केस चला रहे थे तब वो चूहे की तरह बिल में दुबक कर बैठ गए थे, आज तक उन्होंने किसी भी सार्वजनिक आंदोलन हिस्सा नहीं लिया।’ उन्होंने कहा कि उसकी तीन फिल्में फ्लाप हो चुकी हैं इसलिए अब सिनेमा से रिटायरमेंट चाहता है। इसलिए इस तरह के स्टेटमेंट दे रहा हैं। उसका कुछ होने वाला नहीं है, इसलिए कम्युनिस्टों की चापलूसी कर रहा है। स्वामी ने कहा कि वो आधारहीन आरोप लगा रहे हैं, उनके पास कोई सबूत नहीं है।

संघ विचारक राकेश सिन्हा ने भी कमल हासन के इस बयान की कड़ी आलोचना करते हुए कहा है कि इन्हें अपने इस घटिया बयान के लिए तुरंत माफी मांगनी चाहिए।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App