देश में चल रही है अघोषित इमरजेंसी – बोले राकेश टिकैत, नरेंद्र मोदी के कैबिनेट विस्तार पर साधा निशाना

केंद्र सरकार द्वारा पारित तीन कृषि कानूनों के विरोध में किसान पिछले 7 महीनों से दिल्ली बॉर्डर पर प्रदर्शन कर रहे हैं। देश में बढ़ती महंगाई को लेकर भी भारतीय किसान यूनियन के नेताओं ने गुरुवार को ट्रैक्टर व गैस सिलेंडर के साथ प्रदर्शन किया।

Delhi Border, Farmer
पीएम नरेंद्र मोदी और किसान नेता राकेश टिकैत (फाइल फोटो)

केंद्र सरकार द्वारा पारित तीन कृषि कानूनों के विरोध में किसान पिछले 7 महीनों से दिल्ली बॉर्डर पर प्रदर्शन कर रहे हैं। देश में बढ़ती महंगाई को लेकर भी भारतीय किसान यूनियन के नेताओं ने गुरुवार को ट्रैक्टर व गैस सिलेंडर के साथ प्रदर्शन किया। किसान नेताओं ने दो टूक कहा है कि हम पीछे हटने वाले नहीं है। जब तक यह बहरी सरकार हमारी मांगे पूरी नहीं करती। हम किसान आंदोलन जारी रखेंगे। इसी मुद्दे पर एक न्यूज़ चैनल से बातचीत करते हुए किसान यूनियन के प्रवक्ता राकेश टिकैत टिकैत ने कहा कि, ‘ देश में अघोषित इमरजेंसी चल रही है।’

न्यूज़ 24 चैनल से बातचीत करते हुए राकेश टिकैत ने नरेंद्र मोदी सरकार के मंत्रिमंडल पर भी निशाना साधा। उन्होंने इस बातचीत में कहा कि लोगों की सैलरी नहीं बढ़ी और किसानों की फसलों के दाम नहीं बढ़े लेकिन देश में महंगाई बढ़ रही है। उनसे सवाल पूछा गया है कि इस तरह के प्रदर्शन से क्या सरकार पर कोई दबाव पड़ता है? इसका जवाब देते हुए राकेश टिकैत ने कहा कि, ‘सुनती है वहां तक संदेश पहुंचता है की जनता आपके द्वारा बढ़ाई जा रही महंगाई से परेशान है।’

किसान इस समय क्या विपक्ष की भूमिका निभा रहे हैं? इस पर उन्होंने कहा कि विपक्ष बोल नहीं रहा है, इतना डरना नहीं चाहिए। उसको सामने आना चाहिए। रिपोर्टर ने जब उनसे यह सवाल पूछा कि कल मंत्रिमंडल में बदलाव हुआ है इससे किसानों को कुछ फायदा होगा? इस पर उन्होंने नरेंद्र मोदी सरकार पर निशाना साधते हुए कहा कि, ‘ यह अघोषित इमरजेंसी है कोई कुछ भी कर दे कोई बोलता ही नहीं, मंत्री बनने चाहिए और उनको पावर भी दे देनी चाहिए। यहां तो मंत्रियों को कोई जानकारी ही नहीं है।’

उन्होंने न्यूज़ चैनल से बातचीत में यह भी कहा कि सरकार वोट चाहती है, जनता का काम न करना पड़े। उनका तो यह है कि जेब में कुछ पैसे हैं तो उसे भी वह छीन ले और महंगाई बढ़ा दे। अभी आएगा कि अनाज के बदले वोट, रोटी के बदले वोट मिल जाएगा। देश की हालात यह होने वाली है।

उनके इस वीडियो पर लोगों ने अपनी प्रतिक्रिया भी दी है। एक यूजर ने कमेंट किया कि, ‘भारत में लोकतंत्र,जनता का जनता के लिए जनता के द्वारा शासन न होकर, मोदी का मोदी के लिए मोदी द्वारा शासन में बदल गया,गरीब जनता, किसान, बेरोजगार सब अपने हक रोटी रोजगार राशन, तेल, पानी के लिए त्राहि त्राहि कर रहे है ओर साहब को सत्ता कुर्सी ओर मंत्रिमंडल विस्तार से तुष्टीकरण की पड़ी है।’ @DrAVTARSINGH8 ट्विटर हैंडल से मोदी सरकार पर हमला बोलते हुए लिखा गया कि मोदी को अगर वोट से मतलब होता तो अब तक किसानो की मांगें मान ली होती। उनको वोट से मतलब नहीं है क्योंकि उनपर EVM मेहरबान है।

 

पढें ट्रेंडिंग समाचार (Trending News). हिंदी समाचार (Hindi News) के लिए डाउनलोड करें Hindi News App. ताजा खबरों (Latest News) के लिए फेसबुक ट्विटर टेलीग्राम पर जुड़ें।

अपडेट