ताज़ा खबर
 

मनीष सिसोदिया से पूछताछ पर बिफरे राजदीप सरदेसाई, लिखा- 1.5 करोड़ कई नेताओं का रोज का खर्च, सीबीआई तोता या कुत्ता?

सीबीआई ने शुक्रवार (16 जून) को दिल्ली के उप-मुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया से पूछताछ की।

Author June 16, 2017 4:48 PM
वरीष्ठ पत्रकार राजदीप सरदेसाई ने ट्विटर पर जाहिर की नाराजगी। (फाइल फोटो)

वरिष्ठ पत्रकार राजदीप सरदेसाई ने ट्विटर पर परोक्ष रूप से केंद्रीय अन्वेषण ब्यूरो (सीबीआई) की तुलना तोता-कुत्ता कहकर नए विवाद को न्योता दे दिया है। राजदीप सरदेसाई ने शुक्रवार (16 जून) को ट्वीट किया, “सीबीआई आम आदमी पार्टी द्वारा कथित तौर पर पीआर फर्म को डेढ़ करोड़ रुपये देने की जांच कर रही है। मेरे ख्याल से इतना तो हमारे बड़े नेताओं को रोज का जेबखर्च होगा! पिंजड़े में बंद तोता या रॉटवीलर?” रॉटवीलर कुत्तों की एक नस्ल होती है। सीबीआई ने शुक्रवार (16 जून) को दिल्ली के उप-मुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया से वित्तीय अनियमितता के एक मामले में पूछताछ की।

सीबीआई अधिकारी शुक्रवा दोपहर सिसोदिया के घर पहुंचे। सीबीआई ने सिसोदिया से दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल के “टॉक टू एके” सोशल मीडिया कैंपेन में जुड़े मामले में पूछताछ की। “टॉक टू एके” का आयोजन पिछले साल 17 जुलाई को किया गया था। कार्यक्रम में दिल्ली के सीएम अरविंद केजरीवाल ने कई मुद्दों पर बात की थी। इस कार्यक्रम का “टॉक टू एके” डॉट कॉम वेबसाइट पर सजीव प्रसारण भी हुआ था। सीबीआई ने सतर्कता विभाग द्वारा की गई शिकायत के बाद इस ममले में प्राथमिक जांच शुरू की थी। दिल्ली सरकार पर आरोप है कि उसने “टॉक टू एके” कार्यक्रम के लिए एक निजी पीआर कंपनी की सेवा ली थी और इसके लिए 1.5 करोड़ रुपये का टेंडर निकाला गया था।

शिकायत के अनुसार दिल्ली के तत्कालीन प्रधान सचिव की आपत्ति के बाद भी सरकार ने प्रस्ताव को मंजूरी दी और पीआर कंपनी को पैसे दिए। सीबीआई ने प्राथमिक जांच के बाद इस साल जनवरी में दिल्ली के उप-मुख्यमंत्री सिसोदिया के खिलाफ “टॉक टू एके” के आयोजन में वित्तीय अनियमितता का मामला दायर किया था। सीबीआई द्वारा केस किए जाने पर डिप्टी सीएम मनीष सिसोदिया और सीएम अरविंद केजरीवाल ने इसे नरेंद्र मोदी सरकार के इशारे पर की गई कार्रवाई बताया था। जबकि बीजेपी और केंद्र सरकार सीबीआी के इस्तेमाल के आरोप से इनकार करते रहे हैं।

वीडियो- पीएम नरेंद्र मोदी ने नहीं दी अपने साथियों को रियायत

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App