ताज़ा खबर
 

Google Doodle Raja Ram Mohan Roy: महिला अधिकारों का सैकड़ों साल पहले राजा राममोहन राय ने किया था समर्थन

Raja Ram Mohan Roy Google Doodle, Raja Ram Mohan Roy Social Reformer Quotes in Hindi (राजा राममोहन राय, राजा राममोहन राय के राजनीतिक विचार, राजा राममोहन राय पुस्तकें, राजा राममोहन राय के सामाजिक विचार, राजा राममोहन राय जीवनी, राजा राममोहन राय पर निबंध): राम मोहन राय ने कट्टरता, शक्ति, धर्म और सती प्रथा के खिलाफ निरंतर अभियान चलाया।

Raja Ram Mohan Roy Google Doodle: राममोहन राय का जन्म पश्चिम बंगाल के हुगली जिले के राधानगर में हुआ।

Raja Ram Mohan Roy Google Doodle (राजा राममोहन राय, राजा राममोहन राय के राजनीतिक विचार, राजा राममोहन राय पुस्तकें, राजा राममोहन राय के सामाजिक विचार, राजा राममोहन राय जीवनी, राजा राममोहन राय पर निबंध): विश्व के सबसे बड़े सर्च इंजन गूगल ने आज यानी मंगलवार (22 मई, 2018) को समाज सुधारक राजा राममोहन राय की 246वीं जयंती पर डूडल बनाया है। राम मोहन राय ने कट्टरता, शक्ति, धर्म और सती प्रथा के खिलाफ निरंतर अभियान चलाया। उन्होंने सैकड़ों साल पहले महिला अधिकारों का बड़े पैमाने पर समर्थन किया। दुनिया में समाज सुधारक के रूप में विख्यात रहे राममोहन राय का जन्म पश्चिम बंगाल के हुगली जिले के राधानगर में हुआ।

उन्होंने अपनी जिंदगी के शुरुआती सालों में फारसी और अरबी के साथ संस्कृत की शिक्षा हासिल की। जिसने उनकी सोच को एक भगवान उपस्थिति को लेकर खासा प्रभावित किया। बाद में उन्होंने वैदिक ग्रंन्थों का अंग्रेजी भाषा में अनुवाद किया। पिता की मौत के बाद राममोहन 1803 में मुर्शिदाबाद चले गए जहां उनकी पहली किताब छपी। इस किताब का नाम था तुहफत-उल-मुवाहिदीन (Tuhfat-ul-Muwahhidin) या एकेश्वरवाद की तरफ से एक उपहार। राममोहन राय ने प्राचीन वेदांतिक साहित्य का ज्ञान प्राप्त करने के अलावा हरिहरानंद तीर्थस्वामी की मदद स तांत्रिक कार्यों का भी अध्ययन किया। उन्होंने कल्प सूत्र और अन्य जैन ग्रंथों में महारत हासिल की। इस दौरान उन्होंने अपनी अंग्रेजी भाषा में भी सुधार किया।

राम मोहन राय को यूरोपीय राजनीति में काफी दिलचस्पी थी। साल 1814 में समाज सुधार के रूप में विख्यात राममोहन राय तब कैलकटा (अभी कोलकाता) में शिफ्ट हो गए। यहीं 1815 में उन्होंने ‘आत्मीय सभा’ की स्थापना की। 1828 में उन्होंने ब्रह्म समाज की स्थापना की, जो पहला भारतीय सामाजिक-धार्मिक सुधार आंदोलन माना जाता था। 1830 में मुगल साम्राज्य के राजदूत के रूप में उन्होंने ब्रिटेन की यात्रा की। यह वह दौर था, जब भारतीय समाज में ‘सती प्रथा’ जोरों पर थी। 1829 में इसके उन्‍मूलन का श्रेय राजा राममोहन राय को ही जाता है।

बता दें कि राजा राम मोहन राय का जन्‍म 22 मई, 1772 को पश्चिम बंगाल के मुर्शिदाबाद जिले के राधानगर गांव हुआ था। उनके पिता रमाकांत राय एक हिन्‍दू ब्राह्मण थे, लेकिन बचपन से ही वह कई हिन्‍दू रूढ़ियों से दूर रहे। आज महान भारतीय समाज सुधार राजा राममोहन राय की जयंती मनाने के लिए गूगल ने बीना मिस्त्री द्वारा डिजाइन किया गया डूडल बनाया है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App