ताज़ा खबर
 

रोडीज वाले रघुराम से टि्वटर पर भिड़ी बीजेपी, कहा- कैमरे पर दिखाते हैं धौंस, पीछे डरपोक

रघुराम ने फिर लिखा, " कर्नाटक बीजेपी के आधिकारिक अकाउंट से नफरत से भरी इस भाषा को देखकर मैं दुखी हूं, ये लोग चुनावी फायदे के लिए ध्रुवीकरण कर रहे हैं और साम्प्रदायिक तनाव पैदा कर रहे हैं।" रघुराम के इस ट्वीट पर बीजेपी ने जवाब देते हुए लिखा, " देखिए ये कौन कह रहा है, वो जो कैमरा पर धौंस दिखाता है और पीछे से डरपोक है।

एमटीवी रोडीज के जज रह चुके रघुराम टि्वटर पर बीजेपी से बुरी तरह से भिड़ गये।

एमटीवी के रियलिटी शो रोडीज में जज रह चुके सिलेब्रेटी रघुराम सियासी जगत में भी चर्चा में रहते हैं। इस बार भारतीय जनता पार्टी और रघुराम के बीच सोशल मीडिया पर जोरदार बहस हुई है। बीजेपी ने रघुराम को डरपोक और गुस्सैल कहा है। दरअसल रघुराम कर्नाटक बीजेपी के एक ट्वीट से नाराज हो गये और बीजेपी पर धर्म की राजनीति करने का आरोप लगाया। कर्नाटक बीजेपी और रघुराम के बीच ट्विटर वार की पूरी कहानी कुछ इस तरह है। दरअसल कर्नाटक बीजेपी ने अपने आधिकारिक ट्विटर अकाउंट से एक ट्वीट किया, ” हमारे कार्यकर्ताओं को उनके परिवारवालों से लगातार फोन आते रहता है, उनके परिवार वाले उनकी सुरक्षा के बारे में पूछते हैं, हिन्दू समझ गये हैं कि यह सरकार उनकी रक्षा नहीं करेगी, करावली में हरेक हिन्दू परिवार को खात्मे का डर सता रहा है, जिहादियों का समर्थन करने वाली सिद्धा सरकार को जाना चाहिए।” इस ट्वीट को कोट करते हुए रघुराम लिखा, “ये क्या गंभीरता से कहा जा रहा है, बीजेपी के आधिकारिक ट्वीट पेज से घृणा का मैसेज आ रहा है।”

रघुराम ने फिर लिखा, ” कर्नाटक बीजेपी के आधिकारिक अकाउंट से नफरत से भरी इस भाषा को देखकर मैं दुखी हूं, ये लोग चुनावी फायदे के लिए ध्रुवीकरण कर रहे हैं और साम्प्रदायिक तनाव पैदा कर रहे हैं।” रघुराम के इस ट्वीट पर बीजेपी ने जवाब देते हुए लिखा, ” देखिए ये कौन कह रहा है, वो जो कैमरा पर धौंस दिखाता है और पीछे से डरपोक है, इसे एक रियलिटी शो से इसके गुस्से के कारण हटा दिया गया था, यदि आपके पास जरा सा भी संवेदनशीलता बची है तो आप ट्वविटर पर हल्की भाषा इस्तेमाल करने से पहले उन 24 कार्यकर्ताओं के परिवार वालों से क्यों नहीं मिलते हैं, उनका दर्द क्यों नहीं बांटते हैं जो मर चुके हैं।”

रघुराम ने बीजेपी के इस ट्वीट पर जवाब दिया। उन्होंने लिखा, “आपके पास मेरे ट्वीट का जवाब देने के लिए टाइम हैं, बड़ी अच्छी बात है, ये चुनाव का वक्त है, निश्चित रूप से मुसलमान मारे जाएंगे, दलित जलाए जाएंगे, आपका महीने का लक्ष्य अपने आप पूरा नहीं होने वाला है, जाइए, फोकस करिए, आप जानते हैं मैं ऐसे लोगों को ट्विटर पर म्यूट कर देना पसंद करता हूं।” बता दें कि कर्नाटक में इसी साल विधानसभा चुनाव होने वाले हैं।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App