ताज़ा खबर
 

फेक न्यूज़ मामले में पोस्टकार्ड न्यूज़ का संपादक गिरफ्तार, बीजेपी नेता कर रहे रिहाई की मांग

हेगड़े की गिरफ्तारी के बाद जैसे ही मीडिया और सोशल मीडिया में आई बीजेपी के कई नेता उसके रिहाई की मांग करने लगे। सोशल मीडिया में बकायदा #RelaseMaheshHegde नाम से हैशटैग भी चलाया जा रहा है।

पोस्टकार्ड न्यूज़ का संपादक महेश हेगड़े(दाएं), बाईं तरफ ऊपर बीजेपी सांसद महेश गिरी और नीचे अनंत कुमार हेगड़े।

न्यूज़ वेबसाइट पोस्ट कार्ड न्यूज के को-फाउंडर और संपादक महेश विक्रम हेगड़े को बेंगलुरु पुलिस की क्राइम ब्रांच ने गिरफ्तार कर लिया है। क्राइम ब्रांच ने महेश विक्रम हेगड़े को गुरुवार को बेंगलुरु से गिरफ्तार किया है। हेगड़े की गिरफ्तारी का बीजेपी ते कई नेताओं की तरफ से रिहाई की मांग उठ रही है। इस तरह की मांग करने वालों में बीजेपी के सांसद तक शामिल हैं। क्राइम ब्रांच के मुताबिक महेश हेगड़े को इन्फॉर्मेशन टेक्नोलॉजी एक्ट की धारा 66A और भारतीय दंड संहिता की धारा 153A, 120 और 34 के तहत गिरफ्तार किया गया है। हालांकि कुछ मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक के मुताबिक महेश हेगड़े को धारा 66A के तहत गिरफ्तार किए जाने की सूचना गलत है। दरअसल पोस्टकार्ड न्यूज़ के संपादक महेश हेगड़े ने एक जैन मुनि से संबंधित फेक न्यूज को अपने पोर्टल पर प्रकाशित की थी। इस फर्जी खबर में बेंगलुरु में जैन मुनि पर मुस्लिमों द्वारा हमले की बात कही गई थी, जो कि सरासर गलत थी। इसी फेक न्यूज़ के लिए क्राइम ब्रांच ने हेगड़े को गिरफ्तार किया है।

हेगड़े की गिरफ्तारी के बाद जैसे ही मीडिया और सोशल मीडिया में आई बीजेपी के कई नेता उसके रिहाई की मांग करने लगे। सोशल मीडिया में बकायदा #RelaseMaheshHegde नाम से हैशटैग भी चलाया जा रहा है। पूर्वी दिल्ली से बीजेपी सांसद महेश गिरी ने हेगड़े की गिरफ्तारी को अभिव्यक्ति पर आजादी बताते हुए कांग्रेस और कर्नाटक सरकार को घेरा है। बीजेपी सांसद ने लिखा कि महेश हेगड़े और तमाम राष्ट्रवादियों पर कर्नाटक सरकार बेशर्म तरीके से कार्रवाई कर रही है।

महेश गिरी के साथ ही तमाम बीजेपी नेताओं ने गिरफ्तार संपादक के रिहाई की मांग करते हुए सोशल मीडिया पर पोस्ट लिखे हैं।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App