ताज़ा खबर
 

बेटी बनेगी गुजरात की अगली सीएम, राष्ट्रपति दौड़ से बाहर हुए आडवाणी तो लोगों ने किया कमेंट

एक यूजर ने लिखा है कि 'लगता है आडवाणी जी की हर इच्छा की समाधि बनाना भी 2014 के बीजेपी के मेनिफेस्टो में शामिल था।'

भाजपा के वरिष्ठ नेता लालकृष्ण आडवाणी।

बीजेपी नेतृत्व की ओर से बिहार के राज्यापाल रामनाथ कोविंद को राष्ट्रपति पद का उम्मीदवार घोषित करने के बाद ही सोशल मीडिया पर लालकृष्ण आडवाणी से लोग हमदर्दी जता रहे हैं। लालकृष्ण आडवाणी भी राष्ट्रपति पद की रेस में शामिल थे और उम्मीद जताई जा रही थी कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी उन्हें राष्ट्रपति बनाकर गुरुदक्षिण दे सकते हैं। लेकिन इस पद के लिए रामनाथ कोविंद के नाम की घोषणा के लोग आडवाणी पर व्यंग्य बाण छोड़ रहे हैं।

एक यूजर ने लिखा है कि ‘लगता है आडवाणी जी की हर इच्छा की समाधि बनाना भी 2014 के बीजेपी के मेनिफेस्टो में शामिल था।’ सुनील नेगी नाम के एक यूजर ने लिखा है कि ‘अब मौका आ गया है कि आडवाणी और जोशी जी को इज्जत से राजनीति छोड़ देनी चाहिए बजाय इसके कि वे बार-बार पार्टी से निरादर झेलें।’ एक यूजर का कहना है कि दलित-नॉन दलित सिर्फ कहने भर के लिए है कि बीजेपी को अभी भी कृष्ण से ज्यादा राम प्यारे हैं। विनय कुमार दोकानिया नाम के एक ट्विटर यूजर ने लिखा है कि ‘राम से शुरु हुआ राम से खत्म हो गया आडवाणी जी का करियर।’ एक यूजर का कहना है कि आडवाणी एक मात्र ऐसे नेता है जो इन दोनों ही पदों पर रहे हैं पीएम- इन-वेटिंग, और प्रेसिडेंट-इन-वेटिंग।

एक यूजर ने लिखा है कि आडवाणी जी का प्रमोशन हो गया है, वे अब पीएम इन वेटिंग से प्रेसिडेंट इन वेटिंग हो गये हैं। वहीं राजीव सिंह नाम के एक यूजर ने लिखा है कि आडवाणी अभी यही कह रहे होंगे कि अगले जन्म मोहे वेटिंग ना कीजो। वहीं फेसबुक पर एक यूजर ने लिखा है कि आडवाणी जी फिर से रनआउट हो गये हम इसकी कड़ी निंदा करते हैं। फेसबुक पर एक यूजर ने लिखा है कि राम नाथ में ऐसा क्या था जो राम रथ में नहीं है। एक यूजर ने लिखा है कि आज आडवाणी जी के साथ मोदी ने वही किया जो कल पांड्या के साथ रवीन्द्र जड़ेजा ने किया था। फेसबुक में ही एक शख्स ने टिप्पणी की है कि आडवाणी जी की बेटी को गुजरात का अगला सीएम बनाया जा रहा है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App